NPR Kya hai - What is National Population Register

NPR ( National Population Register ) पर कैबिनेट ने मुहर लगा दी है, सूत्रों के मुताबिक, यह मंजूरी राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर यानी NPR को अपडेट करने के लिए दी गई है. तो आइये जानते है,  NPR Kya hai....नरेंद्र मोदी सरकार के कैबिनेट ने National Population Register (NPR) को मंजूरी दे दी है. जिसके तहत भारतीय नागरिकों के biometric और Genealogy ( वंशावली ) को दर्ज किया जाएगा.




# पहली जनगणना कब हुई थी.
आजादी के बाद 1951 में पहली जनगणना हुई थी. 10 साल में होने वाली जनगणना अब तक 7 बार हो चुकी है. अभी 2011 में की गई जनगणना के आंकड़े उपलब्ध हैं, और 2021 की जनगणना पर काम जारी है. biometric data में नागरिक का अंगूठे का निशान और अन्य जानकारी शामिल होगी.


Registrar General and Census Commissioner of India (रजिस्ट्रार जनरल एंड सेंसस कमिश्नर ऑफ इंडिया) और जनगणना ( Census ) आयुक्त विवेक जोशी ने हाल ही में कहा था. कि असम के अलावा पूरे देश में NPR ( National Population Register ) पर काम शुरू किया जाएगा.

NPR ( National Population Register ) के अंतर्गत 1 अप्रैल 2020 से 30 सितंबर 2020 तक असम के लिए अलावा देशभर में घर- घर जाकर ये जनगणना की जाएगी.


NPR ( National Population Register ) में प्रत्येक नागरिकों को जानकारी रखी जाएगी. ये  नागरिकता अधिनियम 1955 के प्रावधानों के तहत स्थानीय, उप-जिला, जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर तैयार किया जाता है. आपको बता दें, कोई भी निवासी जो 6 महीने या उससे अधिक समय से स्थानीय क्षेत्र में निवास कर रहा है तो उसे NPR में अनिवार्य रूप से पंजीकरण करना होता है.

# प्रावधानों के तहत तैयार होता है, NPR ( National Population Register )
नागरिकता कानून, 1955 को 2004 में संशोधित किया गया था, जिसके तहत NPR ( National Population Register ) के प्रावधान जोड़े गए। सिटिजनशिप ऐक्ट, 1955 के सेक्शन 14A में यह प्रावधान तय किए गए हैं- - केंद्र सरकार देश के हर नागरिक का अनिवार्य पंजीकरण कर राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी कर सकती है। - सरकार देश के हर नागरिक का रजिस्टर तैयार कर सकती है और इसके लिए नैशनल रजिस्ट्रेशन अथॉरिटी भी गठित की जा सकती है।

सरकारी योजना : 

  • सरकारी योजनाओं के अन्तर्गत दिया जाने वाला लाभ सही व्यक्ति तक पहुंचे और व्यक्ति की पहचान की जा सके.
  • नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) के द्वारा देश की सुरक्षा में सुधार किया जा सके और आतंकवादी गतिविधियों को रोकने में सहायता प्राप्त हो सके.
  • देश के सभी नागरिकों को एक साथ जोड़ा जा सके.


# कौन सी जानकारियां दर्ज होंगी - जनसांख्यिकी विवरण

NPR ( National Population Register ) के लिए प्रत्येक निवासी का निम्नलिखित जनसांख्यिकीय विवरण लिया जाएगा, जिसे देना आवश्यक है.

  •     व्यक्ति का नाम
  •     घर के मुखिया से रिश्ता
  •     पिता का नाम
  •     माता का नाम
  •     जीवनसाथी का नाम (शादीशुदा होने पर)
  •     लिंग
  •     जन्मतिथि
  •     वैवाहिक स्थिति
  •     जन्मस्थान
  •     राष्ट्रीयता
  •     सामान्य नागरिक का वर्तमान पता
  •     वर्तमान पते पर रहने की अवधि
  •     स्थायी निवास का पता
  •     व्यवसाय/गतिविधि
  •     शैक्षणिक योग्यता


# जानबूझकर या गलती से गलत जानकारी देने पर क्या होगा।
यदि NPR ( National Population Register ) के तहत आप गलत सूचना देते हैं, तो सिटिजनशिप रूल्स ( citizenship rules ) 2003 के तहत आपको जुर्माना अदा करना होगा.


# NPR ( National Population Register ) और आधार के बीच क्या संबंध है.
एनपीआर भारत में रहने वाले लोगों का एक आम रजिस्टर है। इसके तहत जुटाए गए डेटा को यूआईडीएआई को री-ड्युप्लिकेशन और आधार नंबर जारी करने के लिए भेजा जाएगा। इस रजिस्टर में तीन मुख्य चीजें- डेमोग्राफिक डेटा, बॉयोमीट्रिक डेटा और आधार नंबर शामिल होंगे.

# किसी का नाम एनपीआर में छूट जाए तो क्या होगा 

NPR ( National Population Register ) देश की आबादी का रजिस्टर है, इसलिए उसमें हरेक निवासी का नाम होगा. अगर किसी का नाम छूट गया है, तो वो अनुमंडल स्तर के रजिस्ट्रार के पास आवेदन कर सकता है,जो लोकल रजिस्ट्रार से एक लेवल ऊपर का अधिकारी है.

# इस स्कीम के उद्देश्य
देश के हर निवासी की पूरी पहचान और अन्य जानकारियों के अधार पर उनका डेटाबेस तैयार करना इसका अहम उद्देश्य है,

सरकार अपनी योजनाओं को तैयार करने, धोखाधड़ी को रोकने और हर परिवार तक स्कीमों का लाभ पहुंचाने के लिए इसका इस्तेमाल करती है.

Post a comment

Please share your thoughts...

Note: only a member of this blog may post a comment.

About Author

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.