March 2017

योगी आदित्यनाथ आज 2:15 बजे लेंगे मुख्‍यमंत्री पद की शपथ, दिनेश शर्मा और केशव मौर्य होंगे डिप्टी सीएम, योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के नए मुख्यमंत्री चुन लिए गए हैं. विधायक दल की हुई बैठक में उनके नाम पर मुहर लगाई गई. इनके साथ ही बीजेपी ने केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा को डिप्टी सीएम नियुक्त किया है. केशव प्रसाद मौर्य जहां बीजेपी के प्रदेशाध्यक्ष हैं, वहीं दिनेश शर्मा लखनऊ के मेयर हैं. विधायक दल की बैठक में लिए गए फैसले की जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि बैठक में किसी दूसरे नाम का प्रस्‍ताव नहीं आया और योगी के नाम का सबने समर्थन किया. नायडू ने बताया कि वरिष्ठ विधायक सुरेश खन्ना ने मुख्यमंत्री के तौर पर योगी आदित्यनाथ के नाम का प्रस्ताव रखा. स्वामी प्रसाद मौर्य समेत 11 लोगों ने प्रस्ताव का अनुमोदन किया, जिसके बाद सभी विधायकों ने खड़े होकर प्रस्ताव का समर्थन किया. उन्होंने विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिले दो तिहाई बहुमत को जाति तथा धर्म आधारित राजनीति और भ्रष्टाचार के खिलाफ जनादेश करार देते हुए कहा कि भाजपा का मुख्य एजेंडा तीव्र विकास और सुशासन होगा.




गोपनीयता की शपथ 

  1. 3.45 सुरेश पासी ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  2. 3.40 संदीप सिंह ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  3. 3.37 मन्नू कोरी ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  4. 3.32 बलदेव ओलख ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  5. 3.33 नीलकंठ तिवारी ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  6. 3.32 मोहसिन रजा ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  7. 3.31 नीलकंठ तिवारी ने राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली है
  8. 3.27 रणवेंद्र प्रताप सिंह ने ली शपथ, बने राज्यमंत्री
  9. 3.26 अतुल गर्ग ने ली शपथ, राज्यमंत्री बने
  10. 3.24 जयकुमार सिंह जैकी बने राज्यमंत्री
  11. 3.22 अर्चना पांडे ने ली शपथ, राज्यमंत्री बनीं
  12. 3.21 जयप्रकाश निषाद ने ली शपथ, राज्यमंत्री बने
  13. 3.18 गुलाबों देवी ने ली शपथ, राज्यमंत्री बनीं
  14. 3.16 स्वाति सिंह ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनीं
  15. 3.14 अनिल राजभर ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  16. 3.12 धर्म सिंह सैनी ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  17. 3.11 भूपेंद्र सिंह चौधरी ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  18. 3.09 स्वतंत्र देव सिंह ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  19. 3.07 डॉ. महेंद्र सिंह ने ली शपथ, राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  20. 3.05 उपेंद्र तिवारी ने ली शपथ , राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  21. 3.04 सुरेश राणा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बने
  22. 3.02 अनुपमा जायसवाल ने ली शपथ, राज्यमंत्री बनीं
  23. 3.00 नंद कुमार नंदी ने ली शपथ बने कैबिनेट मंत्री
  24. 2.58 आशुतोष टंडन बने कैबिनेट मंत्री
  25. 2.57 मुकुट बिहारी वर्मा बने कैबिनेट मंत्री
  26. 2.55 सिद्धार्थ नाथ सिंह ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  27. 2.54 राजेंद्र प्रताप सिंह ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  28. 2.52 श्रीकांत शर्मा ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  29. 2.50 चेतन चौहान ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  30. 2.49 लक्ष्मी नारायण चौधरी ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  31. 2.47 बृजेश पाठक ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  32. 2.46 ओमप्रकाश राजभर ने ली मंत्री पद की शपथ
  33. 2.44 जयप्रताप सिंह ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  34. 2.43 : रमापति शास्त्री ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  35. 2.41 सत्यदेव चौधरी ने ली शपथ, बने कैबिनेट मंत्री
  36. 2.40 एसपी सिंह बघेल ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  37. 2.38 धर्म पाल सिंह ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  38. 2.35 दारा सिंह चौहान ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  39. 2.34 रीता बहुगुणा जोशी ने ली शपथ, बनी कैबिनेट मंत्री
  40. 2.33 राजेश अग्रवाल ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री
  41. 2.30 सतीश महाना ने ली शपथ, कैबिनेट मंत्री बने
  42. 2.29 : स्वामी प्रसाद मौर्य ने कैबिनेट मंत्री के लिए ली शपथ
  43. 2.26 सूर्य प्रताप साही ने शपथ ली, कैबिनेट मंत्री बने
  44. 2.23 : केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा ने ली शपथ, बने डिप्टी सीएम
  45. 2.20 योगी आदित्यनाथ ने ली यूपी के सीएम पद की शपथ
  46. 2.10 मंच पर अमित शाह, मुलायम सिंह यादव, लालकृष्ण आडवाणी, अखिलेश यादव, शिवराज सिंह चौहान, नितिन गडकरी, उमा भारती, रविशंकर प्रसाद समेत कई बड़े नेता मौजूद हैं. अखिलेश और मुलायम सिंह यादव से मंच पर गर्मजोशी से मिले अमित शाह.


47. 2.01 लखनऊ पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, एयरपोर्ट पर हुआ स्वागत

पालीगंज में होलिका दहन के दौरान सैंकडो ग्रामवासियों ने एक साथ जुटकर होलिका को दहन किया,उसी  दौरान भव्य अग्नि प्रज्वलित हुई,



होलिका दहन 

होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है, होली का त्योहार बुराई और अच्छाई के रूप में प्रहलाद की जीत के रूप में मनाया जाता है, होली की एक कहानी भी है, कहा जाता है कि हिरण्याकश्यप नाम का राजा था, उसने अपनी प्रजा को आदेश दिया था, कि वह भगवान की जगह उसकी पूजा करें, लेकिन उसका बेटा प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था और उसने अपने पिता के इस आदेश को न मान कर भगवान के प्रति अपनी आस्था हमेशा बनाए रखी, एक दिन हिरण्याकश्यप ने अपने बेटे को सजा देने का फैसला किया, होलिका हिरण्याकश्यप की बहन थी अपने भाई की बात मनाते हुए होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ गई, होलिका के पास एक ऐसा कपड़ा था, जिसे वह अपने ​शरीर पर लपेट लेती थी तो आग उसे छू भी नहीं सकती थी.



प्रहलाद आग में बैठने के दौरान भगवान विष्णु का स्मरण करते रहे, उसके बाद होलिका का वह कपड़ा उड़कर प्रह्लाद के उपर आ गया जिसकी वजह से उसकी जान बच गई और होलिका आग में जलकर भस्म हो गई, तभी से होली के अवसर पर होलिका दहन की यह प्रथा चली आ रही है, होलिका दहन सूरज ढलने के बाद प्रदोष काल शुरू होने के बाद जब पूर्णमासी तिथि चल रही होती है, तब किया जाता है,

इस साल होलिका दहन 12 मार्च 2017 को शाम 6 बज कर 32 से 8 बजकर 50 मिनट तक किया जाएगा

उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनावों के परिणाम आ चुके हैं. परिणाम के मुताबिक बीजेपी ने 300 के पार का आंकड़ा पार कर लिया है, एसपी-कांग्रेस और बसपा काफी पीछे छूट गए हैं, कहना गलत न होगा कि यूपी में पीएम मोदी की लहर ने एक बार फिर सपा-कांग्रेस और बसपा को धराशायी कर दिया. देश के पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चा यूपी विधानसभा की ही रही. यूपी में सात चरणों में चुनाव कराया गया था, पहले चरण में 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर 1 फरवरी को वोट डाले गए थे. पहले चरण में शामली, मुजफ्फरनगर, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, अलीगढ़, मथुरा, हाथरस, बागपत जैसे जिले शामिल थे. दूसरे चरण में 11 जिलों की 67 सीटों के लिए 15 फरवरी को वोट डाले गए थे. तीसरे चरण में 69 सीटों पर 19 फरवरी को चुनाव कराया गया था. चौथे चरण में 53 सीटों पर 23 फरवरी को वोटिंग हुई. पांचवें चरण में 52 सीटों के लिए 27 फरवरी को तथा छठे चरण में 49 सीटों पर 4 मार्च को चुनाव संपन्न हुआ. सातवें चरण में 40 सीटों पर 8 मार्च को वोट डाले गए.




उत्तर प्रदेश चुनावी परिणाम 



पंजाब चुनावी परिणाम 



गोवा चुनावी परिणाम 



मणिपुर  चुनावी परिणाम 


मोदी की लहर रुझानों में बीजेपी को भारी बहुमत, अब तक के रुझानों के हिसाब से बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा छुआ, सत्ता के करीब बीजेपी ने पार किया 250 का आंकड़ा.


उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के नतीजे आने शुरू हो चुके हैं, नतीजों में एग्जिट पोल सही साबित होते दिखाई दे रहे हैं, बीजेपी ने एसपी गठबंधन और बीएसपी पर बंपर बढ़त बना ली है, इन चुनावों में इस चुनाव में मोदी लहर को रोकने के लिए कांग्रेस ने 105 सीटों पर और समाजवादी पार्टी ने 298 सीटों पर मिलकर अपने उम्मीदवार खड़े किए थे, एग्जिट पोल के नतीजों में बीजेपी को सपा- कांग्रेस गठबंधन पर भारी पड़ते दिखाया गया था.

उत्तर प्रदेश में इस बार कड़ा मुकाबला सपा- कांग्रेस गठबंधन और बीजेपी के बीच जरूर माना जा रहा था, लेकिन बसपा इस रेस में किसी से पीछे नहीं है, इसके अलावा अजीत चौधरी की राष्ट्रीय लोकदल ने भी जदयू जैसी छोटी पार्टियों के साथ मिलकर उत्तर प्रदेश की सभी सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं.

मालूम हो इस चुनाव में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की अपनी बहू अपर्णा यादव, केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह, आजम खान के बेटे अब्दुला खान समेत कई दर्जा प्राप्त मंत्रियों के रिश्तेदार और परिवारजन भी दावा ठोक रहे हैं.

Exilant Technology Company में टूर्नामेंट का आयोजन किया गया। 
पिछले कई दिनों से बैडमिंटन टूर्नामेंट की तैयारी जोर शोरो से चल रही थी और कल दिनांक 5 March 2017 को रिजल्ट घोसित किया गया

तयारी करते हुए



इस टूर्नामेंट में पार्टिसिपेंट पिछले १० दिनों से जोर तोर से तयारी में जुटे हुए थे और आखिर सभी की महनत रंग ले ही आयी.

एक्सीलेंट ने यह प्रतियोगिता कंपनी के एम्प्लोयी के बीच में ही रखी थी. कुल मिलाकर १६ टीम बनी जिसमे टोटल १६ कप्तान थे. हर एक टीम को यूनिक नाम दिया गया.

Darshan or Unki Team Rahi विजेता।

Winner
#DropTeam टीम जिसमे Darshan K, Sanjeev Kumar, Rakesh Kumar T, nikita Jain, Giriraj Shetty, Asha V मेंबर थे. इन्होंने प्रथम स्थान प्राप्त किया




टूर्नामेंट में पार्टिसिपेट करने वाले विजेता खिलाड़ियों दर्शनबालिका निकिताबालक संजीवराकेशGiriraja or Asha को सम्मानित किया गया.



Runner-Up
Shuttle Smashers टीम जिसमे Rajendra Kumar, Ganapati PDheeban Jagadeesan, Amit Naik, Varsha V मेंबर थे. इन्होंने दूसरा स्थान प्राप्त किया




पुरस्कार वितरण समारोह के मुख्य अतिथि employee और खेल प्रेमी Pradeep shetty ने खिलाड़ियाें ko Medal or Trophy प्रदान कर उनका सर गर्व से उचा किया।

पालीगंज चंदोस गांव से पुलिस ने एक घर से विवाहिता महिला की शव बरामद किया है, पुलिस ने मामले की जाँच जुटी शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अनुमण्डल अस्पताल पालीगंज भेज दिया गया. जानकारी के अनुसार मृत विवाहिता महिला पृथ्वी राज वर्मा की बेटी 20 वर्षीय पूजा देवी नाम बताई जा रही है, पूजा देवी की  सगी बहन पूनम कुमारी ने ग्रामीणों पर जबर्दस्ती जहर देकर हत्या करने की आरोप लगाया है,


पूजा देवी की सगी बहन पूनम कुमारी ने बताया है, की...मैं और माँ खेत में काम करने गई थी, कुछ देर बाद जब दोनों घर वापस लौटी तो अपनी बहन को घर के अंदर बन्द कमरे में पाया, पूनम व माँ दोनों को बाहर जाने से पहले घर में दो मौजूद थे, जोकि बाद में वह भाग गए , कुछ घण्टे पहले गांव के कुछ लोग जबर्दस्ती घर में घुसकर मेरी बहन से मारपीट करते हुए उसे जबर्दस्ती जहर खिला दिया और घर के दरवाजे बंद कर फरार हो गए.



साड़ी घटना के बाद पुलिस को सूचना दी पुलिस इस घटना के सूचना के बाद पहुचकर कर घर से मृत विवाहिता की शव बरामद कर अपने कब्जे में लेकर शव को पोस्टमार्टम के लिए पालीगंज हॉस्पिटल भेज दिया.


थानेदार मोहन कुमार ने बताया कि यह जहर का ही मामला लग रहा है, वही पुलिस इस मामले के बारे में ज्यादा कुछ न बोलते हुए अभी कुछ कहने से कतरा रही है, पुलिस ने पूरी जांच के बाद ही बता सकती है.

Source:  amlesh 

पालीगंज मंझौली गाँव के पास सुबह करीब 5 बजे ट्रक और डंफर आपस में टकरा गई,और हादसें में दोनों वाहनों के चालक गंभीर रूप से घायल हो गए



और हादसे को देख कर ग्रामीणों द्वारा बिक्रम अस्पताल में भर्ती कराया गया.जिसकी हालत नाजुक बताई जा रही है.इसी मौके पे पुलिस भी पहुँची गई.

बिहार से जुड़ी " Interesting Facts " मैं आपको बताने जा रहा हूँ. कुछ ऐसी बात जो आप नहीं जानते होंगे तो चलिए मैं आपको बिहार के बारे में बताता हूँ.


बिहार देश के सबसे पुराने राज्यों में से एक है. जानकर हैरानी होगी की, बिहार का प्राचीन नाम " विहार " है. जिसका मतलब है, " मठ "  यह भारत के पूर्व भाग में बिराजमान है. बिहार की राजधानी " पटना " है. बिहार के उत्तर में नेपाल, पूर्व में पश्चिम बंगाल, पश्चिम में उत्तर प्रदेश और दक्षिण में झारखण्ड बिराजमान है. बिहार की मिट्टी स्वाभाविक तौर पर उपजाउ है और इसकी यह विशेषताएं भारतीय गंगा समतल क्षेत्र की गंगा जलोड़ मिट्टी के कारण हैं. पश्चिम चंपारण में दलदली मिट्टी और उत्तरी बिहार में तैराई मिट्टी मिलती है. गंगा और उसकी सहायता से नदियां बिहार में पश्चिम से पूर्व की ओर बहती हैं. बिहार के उत्तर में हिमालय पर्वत है जो वास्तव में नेपाल से शुरु होता है और इसके दक्षिण में कैमूर पठार और छोटानागपुर पठार है.

बिहार क्षेत्र गंगा नदी और उसकी सहायक नदियों के उपजाऊ मैदानों में बिहार बसा है.और बिहार आबादी के मान से तीसरा सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला राज्य है.



बिहार का ऐतिहासिक नाम मगध है.और बिहार की राजधानी पटना का ऐतिहासिक नाम पाटलिपुत्र है.


बिहार का इतिहास 

बिहार का वन और क्षेत्र भी विशाल है, जो कि 6,764km है.और 1,000 सालों तक सत्ता शिक्षा और संस्कृति के क्षेत्र में भूमिका निभाई गई. और मौर्य नाम का पहला भारतीय साम्राज्य 352 ईस्वी में मगध में ही शुरु हुआ और उसकी राजधानी पाटलीपुत्र यानी जो आज पटना के नाम से बोलते है.बिहार के सासाराम के महान पश्तून शासक शेर शाह सूरी ने सन् 1540 में उत्तर भारत की बागडोर संभाली थी.


बिहार की सरकर और राजीनतिक 

भारत आजाद होने के बाद बिहार की स्थिति काफी खराब और इस  वजह से यह देश के पिछड़े राज्यों में गिना जाने लगा. बिहार की दो राजनीतिक पार्टियां हैं एनडीए और भाजपा, जनता दल शामिल हैं.और बेहतर प्रशासन हेतु बिहार को नौ संभागों और 38 जिलों में बांटा गया है.


आजादी के बाद बिहार में सन् 1990 में जनता दल सत्ता में आया और लालू प्रसाद यादव मुख्यमंत्री बने.आपको जानकर हैरानी होगी हालांकि बिहार का विकास करने में विफल रहे लालू प्रसाद यादव और भ्रष्टाचार बढ़ने पर मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर 25 जुलाई 1997 में अपनी पत्नी " राबड़ी देवी " को मुख्यमंत्री बना दिया.


बिहार की संस्कृति 

गौतम बुद्ध और भगवान महावीर की जन्मभूमि " बिहार " है.इसलिए आज की बिहार की संस्कृति एक महान ऐतिहासिक विरासत है.बिहार में ऐसे त्यौहार हैं जो सिर्फ बिहार में ही मनाए जाते हैं.छठ पूजा एक त्यौहार है.बिहार में सूर्य देवता की पूजा बहुत श्रद्धा से की जाती है.सर्दियों के मौसम में मिथिला में समा चाकेवा उत्साह से मनाया जाता है.और बिहार का एक और लोकप्रिय त्यौहार मकर संक्राति भी है.आपको जानकर हैरानी होगी बिहार ही एक ऐसा स्टेट है, बच्चे के जन्म के समय " सोहर " गाया जाता है. और शादी के वक्त " सुमंगली " गीत गाते हैं. और धान को बोते समय " कटनीगीत " भी गाया जाता है.और फसल की कटाई के दौरान " रोपनीगीत " गाते हैं.और बिहार की कुछ माहा प्रसिद्ध
  1. लोक नृत्य शैलियां ,
  2. गोंड नाच, 
  3. धोबी नाच, 
  4. झूमर नाच, 
  5. जितिया

बिहार की प्रचलित भाषाएं

बिहार राज्यों में बोली जाने वाली विभिन्न भाषाओं है.
  1. मैथिली
  2. मगही
  3. बज्जिका
  4. भोजपुरी
  5. अंगिका 

हिन्दी बिहार की प्रमुख भाषा है. शिक्षा और सरकारी के छेत्रो में हिन्दी और उर्दू का इस्तेमाल होता है. मगही भाषा का नाम मगधी प्राकृत से बना जो कि मौर्य साम्राज्य की आधिकारिक भाषा थी और भगवान बुद्ध भी इसे बोलते थे.मगही भाषा को देवनागरी लिपि में लिखी जाती है.


भोजपुरी बिहार की बहुत लोकप्रिय भाषा है. यह भारत की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा में से एक है.

बिहार पर्यटन बस सेवा 

बिहार का परिवहन बहुत विशाल है.बिहार में कुल 29 राष्ट्रीय राजमार्ग और कई राज्य राजमार्ग हैं. जो कि लगभग  2,910km और 3,766km  लंबे हैं. 


बिहार राज्य पर्यटन विकास निगम कई डीलक्स और लक्ज़री बसें चलती है.बिहार का रेल तंत्र राज्य को प्रमुख शहरों जैसे : दिल्ली, मुंबई और कोलकाता से जोड़ गया है.बिहार से जुड़े रेलवे स्टेशनों में पटना, मुजफ्फरनगर, दरभंगा, गया, कैथर, छपरा, बरौनी और भागलपुर हैं.

                                 बिहार के महत्वपूर्ण तथ्य


राज्यपाल    
आर एन कोविद
मुख्यमंत्री
नितेश कुमार
स्थापना का दिन
1912 बिहार के रूप में, (उड़ीसा प्रांत – बिहार), 26 जनवरी 1950
क्षेत्रफल
94,163 वर्ग किमी
घनत्व
1,102 प्रति वर्ग किमी
जनसंख्या (2011)  
104,099,452
पुरुषों की जनसंख्या (2011)    
54,278,157
महिलाओं की जनसंख्या (2011)  
49,821,295
जिले    
 38
राजधानी  
 पटना
नदियाँ
कोसी, गंगा, सरयू, गंडक, कमला, पनर, सौरा, पुनपुन
वन एवं राष्ट्रीय उद्यान   
वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान, राजगीर अभयारण्य, भीमबांध अभयारण्य, गौतम बुद्ध अभयारण्य, उदयपुर अभयारण्य
भाषाएँ
हिंदी, भोजपुरी, मैथिली, अंगिका, मगही
पड़ोसी राज्य  
झारखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल
राजकीय पशु
  बैल
राजकीय पक्षी
  गौरैया
राजकीय वृक्ष
  पीपल
राजकीय फूल
  गेंदा
नेट राज्य घरेलू उत्पाद (2011)
  20708
साक्षरता दर (2011)
  63.82%
1000 पुरुषों पर
महिलायें    
916
विधानसभा निर्वाचन
क्षेत्र  
243
संसदीय निर्वाचन क्षेत्र  
 40




Bihar Destinations & Bihar District Name 

चलिए मैं आपको बिहार के जिले, मुख्यालय विकास, के बारे में बताने जा रहा हूँ.जो निचे दि गई है.


बिहार के जिले

क्र.सं
जिला का नाम
जिला
मुख्यालय
जनसख्या       (2011)
विकास दर
लिंग अनुपात
साक्षरता
    क्षेत्र
वर्ग किमी
 घनत्व
वर्ग किमी
1.
अररिया
अररिया
2811569
30.25%
921
53.53
2829   
992
2.
अरवल
अरवल
700843
18.89%
928
67.43
4839
1099
3.
औरंगाबाद
औरंगाबाद
2540073
26.18%
926
70.32
3303
706
4.
बांका
बांका
2034763
26.48%
907
58.17
3018
672
5.
बेगूसराय
बेगूसराय
2970541
26.44%
895
63.87
1917
1540
6.
भागलपुर
भागलपुर
3037766
25.36%
880
63.14
2569
1180
7.
भोजपुर
आरा
2728407
21.63%
907
70.47
2473
1136
8.
बक्सर
बक्सर
1706352
21.67%
922
70.14
1624
1003
9.
दरभंगा
दरभंगा
3937385
19.47%
911
56.56
2278
1721
10.
गया
गया
4391418
26.43%
937
63.67
4978
880
11.
गोपालगंज
गोपालगंज
2562012
19.02%
1021
65.47
2033
1258
12.
जमुई
जमुई
1760405
25.85%
922
59.79
3099
567
13.
जहानाबाद
जहानाबाद
1125313
21.68%
922
66.8
1569
1206
14.
कैमूर
कैमूर
1626384
26.17%
920
69.34
3363
488
15.
कटिहार
कटिहार
3071029
28.35%
919
52.24
3056
1004
16.
खगरिया
खगरिया
1666886
30.19%
886
57.92
1486
1115
17.
किशनगंज
किशनगंज
1690400
30.40%
950
55.46
1884
898
18.
लखीसराय
लखीसराय
1000912
24.77%
902
62.42
1229
815
19.
मधेपुरा
मधेपुरा
2001762
31.12%
911
52.25
1787
1116
20.
मधुबनी
मधुबनी
4487379
25.51%
926
58.62
3501
1279
21.
मुंगेर
मुंगेर
1367765
20.21%
876
70.46
1419
958
22.
मुजफ्फरपुर
मुजफ्फरपुर
4801062
28.14%
900
63.43
3173
1506
23.
नालंदा
नालंदा
2877653
21.39%
922
64.43
2354
1220
24.
नवादा
नवादा
2219146
22.63%
939
59.76
2492
889
25.
पश्चिम चंपारण
बेतिया
3935042
29.29%
909
55.7
5229
753
26.
पटना
पटना
5838465
23.73%
897
70.68
3202
1803
27.
पूर्व चंपारण
मोतिहारी
5099371
29.43%
902
55.79
3969
1281
28.
पूर्णिया
पूर्णिया
3264619
28.33%
921
51.08
3228
1014
29.
रोहतास
सासाराम
2959918
20.78%
918
73.37
3850
763
30.
सहरसा
सहरसा
1900661
26.02%
906
53.2
1702
1125
31.
समस्तीपुर
समस्तीपुर
4261566
25.53%
911
61.86
2905
1465
32.
सरन
छपरा
3951862
21.64%
954
65.96
2641
1493
33.
शेखपुरा
शेखपुरा
636342
21.09%
930
63.86
689
922
34.
शिवहर
शिवहर
656246
27.19%
893
53.78
443
1882
35.
सीतामढ़ी
सीतामढ़ी
3423574
27.62%
899
52.05
2199
1491
36.
सिवान
सिवान
3330464
22.70%
988
69.45
2219
1495
37.
सुपौल
सुपौल
2229076
28.66%
929
57.67
2410
919
38.
वैशाली
हाजीपुर
3495021
28.57%
895
66.6
2036
1717

   
List of tourist places in Bihar & Bihar Tourist Place. 

चलिए मैं आपको बिहार के प्रसीद जगहों के बारे में बताने जा रहा हूँ. धर्म इतिहास और संस्कृति का अनूठा मेल है.जो की भारत की पहचान बनी है.कुछ महान साम्राज्यों जैसे मौर्य, गुप्त और पलस के उदय और उनके पतन का गवाह रहा है. 5वीं से 11वीं तक के बीच यहां विश्व का प्रारंभिक विश्वविद्यालय विकसित हुआ.उसके अवशेष आज भी बिहार पर्यटन के आकर्षणों में से एक हैं.और बौद्ध धर्म के कुछ पवित्र स्थान है, और हिंदू धर्म सिख धर्म और जैन धर्म के कुछ महत्वपूर्ण स्थान बिहार में हैं.

1.Pretshila Mount ( प्रेस्टशिला हिल्स )

प्रेतशिला पर्वत बिहार के प्रसिद्ध स्थानों में से एक है. गया में हिंदुयो का महत्व स्थान है.यह एक पबित्र स्थान है.और प्रेतशिला पर्वत से घिरा हुआ है,और आपको जानकर हैरानी होगी गया में प्रेतशिला पर्वत के विपरीत दिशा में रामशिला पर्वत भी है.कहा जाता है की एक " गया " का राक्षस था.जो मौत से लोगों को होने वाले कष्ट को देखकर बहुत व्यथित हुआ. और उसने अपना यह दुख भगवान विष्णु को बताया. तब भगवान विष्णु बहुत प्रसन्न हुए, और भगवान विष्णु ने कहा कि एक राक्षस के मन में भी इतनी बड़ी करुणा. तो ऐसे में भगवान विष्णु ने " गया " राक्षस को यह वरदान दिया कि वह पापियों को क्षमा कर सकता है. इसीलिए " गया " राक्षस के से ही गया नाम रखा गया.
 प्रेतशिला पर्वत पटना से दक्षिण में 100 किमी. दूर पर स्थित है.
गया का प्रेतशिला पर्वत " फाल्गु नदी " के पास स्थित है.शहर से  3km दूर स्थित बोधि वृक्ष है, यह वो जगह है जहां " भगवान बुद्ध " को ज्ञान प्राप्त हुआ था.



2. मनेर ( Maner )

दानापुर के उत्तर दक्षिण में स्थित है.और पटना से 32km पश्चिम में है.मनेर...... मनेर शरीफ में दो बहुत प्रसिद्ध मकबरे हैं, 


एक शाह दौलत या मखदूम दौलत का, जिसे छोटी दरगाह भी कहते हैं. और दूसरा मकबरा शेख याहिया मनेरी या मखदूम याहिया का है, जिसे बड़ी दरगाह कहते हैं

मखदमू दौलत ने 1608 में मनेर में अंतिम सांस ली थी.और 1616 में उनके शिष्य और बिहार के राज्यपाल इब्राहिम खान ने उनके मकबरे का निर्माण पूरा करवाया गया और मनेर की यह एक अद्भुत इमारतो में से एक है, इस इमारत की दीवारों पर बड़ी ही जटिल डिजाइन की गई है. उपर एक बड़ा सा गुंबद है, जिसकी छत पर पवित्र कुरान के शिलालेख हैं.इब्राहिम खान द्वारा बनाया गया 1619 में मस्जिद भी आपको मिलेगी.


3. राजगीर (Rajgir) 

नालंदा से 15km दुरी पर स्थित है, " राजगीर ",और मंदिर और मठो से जगह भरी है.पाटलीपुत्र के गठन से पहले राजगीर मगध महाजनपद की राजधानी था. 


भगवान बु़द्ध और बौद्ध धर्म से लंबे समय तक संबंधित रहा है. बुद्ध ने अपने जीवन का लंबा समय राजगीर में बिताया है.


आपको जानकर हैरानी होगी, राजगीर जैन मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है. राजगीर में भगवान महावीर ने भी लंबा समय बिताया था. यह जैन धर्म का एक लोकप्रिय तीर्थस्थल बन गया है.
राजगीर के गर्म पानी के तालाबों में त्वचा संबंधी बीमारियां ठीक करने के गुण भी हैं.  

4. पावापुरी (Pawapuri)

पावापुरी जैन धर्म के लिए एक माहपवित्र स्थान है.और राजगीर से 38 Km और पटना से 101 Km दुरी पर है.मैं आपको बता दू की इस जगह पर अंतिम तीर्थांकर और जैन धर्म के संस्थापक भगवान महावीर ने अंतिम सांस ली थी. 


पावापुरी में 500बीसी में भगवान महावीर का अंतिम संस्कार हुआ था.और उनके अंतिम संस्कार में चिता की राख इकट्ठा करने के लिए इतनी भीड जुटी गई की वहां एक तालाब बन गया.तब इस तालाब के बीच में संगमरमर का जलमंदिर बनाया गया.पावापुरी और उसके आसपास के लोगों के लिए यह एक प्रसिद्ध तीर्थस्थल है.यहां समोशरण नाम का जैन मंदिर भी है. 


अगर आपको घूमने का बहुत मन है,तो आप October और March month में " पावापुरी " घूम सकते है.जैसे निचे दी गई है.
  • जलमंदिर
  • समोशर  ।  आप इन स्थानों पर घूम सकते है...  
" पावापुरी " में और भी जगह है, जो आप घूम सकते है. 
  • राजगीर
  • गया
  • बोधगया
अगर आप परेशान है, इस जगह पर कैसे जाये तो आएये मैं आपको पहुंचने का साधन बताता हूँ. 
बिहार भारत के बाकी हिस्सों से रेल, हवाई और सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है. बिहार कैसे पहुंचें हम आपको पहुँचाने में मदद करेगे.

  • हवाई : सबसे नजदीकी हवाई अड्डा पटना का है, जो 101Km दूर है. पटना से इंडियन एयरलाइंस की उड़ान कोलकाता, मुंबई, दिल्ली, रांची और लखनउ जाती है.
  • रेल : सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन राजगीर है, लेकिन प्रमुख रेलवे स्टेशन पटना है.
  • सड़क : पटना, गया और राजगीर आदि से बस और टैक्सी से भी पहुंचा जा सकता है.
  •  
     
5. वाल्मीकि नगर (Valmiki Nagar)

बिहार के पश्चिमी चंपारण का एक छोटा सा वाल्मीकि नगर गांव है.भारत नेपाल बॉर्डर पे स्थित है.वाल्मीकि नगर बगहा से 42Km. दुरी पर है. आपको जानकर हैरानी होगी की वाल्मीकि नगर क्यों रखा गया है तो आइये हम आपको बताते है, दरअसल...वाल्मीकि नगर में रामायण के रचियता महर्षि वाल्मीकि के नाम पर ही वाल्मीकि आश्रम स्थित है.
6. तार रामायण ( Tar Ramayan )

भोजपुर में तार में भगवान विष्णु के अवतार और रामायण के नायक भगवान राम बहुत लोकप्रिय हैं, यह स्थान पीरो से उत्तर पश्चिम में 10Km. की दूरी पर स्थित है.भोजपुर में तार गांव का नाम का " राक्षसी ताड़का" के नाम पर रखा गया था. रामायण में ताड़का को बहुत निर्दयी चरित्र के तौर पर बताया गया है, जो आम लोगों को बहुत हानि पहुंचाती थी.  

कौन है, " राक्षसी ताड़का "
कहा जाता है, कि ताड़का तार क्षेत्र को अपनी कुश्तियों के लिए इस्तेमाल करती थी. राक्षसी ताड़का इतनी ताकतवर थी, कि कोई उसे हराने की बारे में सोच भी नहीं सकता था

सब लोग ताड़का से बहुत डरते थे.ताड़का से बचने के लिए सबने भगवान विष्णु से प्रार्थना किया, भगवान राम ने ताड़का से युद्ध किया और वह उनकी शक्तियों के आगे टिक नहीं पाई.तो ऐसे में भगवान राम के हाथों से ताड़का का वध हुआ.

तो ऐसे में भोजपुर तार गांव लोगों को भगवान राम की याद दिलाता है.
7. रामचुरा (Ramchura)

बिहार के वैशाली जगह पर " रामचुरा " बिराजमान है.रामायण में वर्णित भारत के इलाकों में यह स्थलों में से एक है. बिहार के आसपास इलाकों में यह जगह सिर्फ तीर्थयात्रा के लिए ही नहीं बल्कि त्यौहारों के लिए भी है.

रामचुरा : क्या आपको पता है, एक बार " भगवान राम " जनकपुर की यात्रा कर रहे थे.तब यात्रा के समय थकान होने पर यहां विश्राम के लिए रुक गए. यह भी कहा जाता है, कि भगवान राम ने यहां स्नान भी किया था. भगवान राम के भक्तों के लिए रामचुरा बहुत धार्मिक महत्व है. रामचुरा में एक पत्थर पर भगवान राम के पैरों के निशान भी है.आप  देखे भी सकते हैं. 
8. चंपारण (Champaran)  

चंपारण बिहार का एक माहा प्रसिद्ध स्थान है, जिसका भारत के स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में बहुत महत्व है,यह वह स्थान है ,जहां महात्मा गांधी ने राष्ट्रीय आंदोलन की संरचना का पहला प्रयास किया था.जो बिहार और देश के अन्य हिस्से में नील खेती करने वाले किसानों पर होने वाले अत्याचार के विरोध में आंदोलन शुरु हुआ था, इस आंदोलन का प्रभाव काफी लंबे समय तक रहा था.चंपारण के अच्छे दिन लाने के लिए महात्मा गांधी बहुत प्रयास किया था. आखिरकार ब्रिटिश सरकार को जांच कमेटी बनानी ही पड़ी. कमेटी को चंपारण के किसानों की स्थिति की जांच करने और रिपोर्ट देने की जिम्मदारी दी गई

9. अहिरोली (Ahiruli)

अगर आप बिहार से है,तो बक्सर का नाम तो जरूर सुना होगा या आप जानते होंगे, चलिए मैं आपको बताता हूँ. दरसअल बिहार के बक्सर शहर से 5Km.  दुरी पर ही अहिरोली गांव है, यहां पर देवी अहिल्या का एक भव्य मंदिर है. पौराणिक कथा के अनुसार देवी अहिल्या गौतम ऋषि की पत्नी थीं. रामायण के अनुसार देवी अहिल्या ने गलती से एक बार अपने पति का भेष धरकर आए एक व्यक्ति को अपना पति समझ लिया. गौतम ऋषि बहुत क्रोधित हो कर और देवी अहिल्या को मानव से पत्थर बना दिया. तो ऐसे में कई सालों के बाद उस क्षेत्र से गुजरते हुए भगवान राम ने देवी अहिल्या को देखा और उसे मुक्त किया. भगवान राम के छूते ही पत्थर बनी देवी अहिल्या वापस मानव बन गई.  

बिहार के प्रसिद्ध खाना (Bihar is famous for food)

चलिए मैं आपको बिहारी के प्रसिद्ध खाने वाली चीजे बताने जा रहा हूँ, जो नाम सुनते ही दाँतो तले उंगलिया दबा लेंगे. 

1. मनेर के लड्डू (Maner Ladoo)
 बिहार की राजधानी पटना से पश्चिम 30 Km की दुरी पर मनेर स्थित है.और मनेर के लड्डू बहुत ही प्रसिद्ध है.पुरे भारत में के लोग जानते है.
2. लिट्टी चोखा (Litti Chokha)  लिट्टी चोखा बिहारी का प्रसिद्ध में एक हिस्सा है, यह बिहार मे खाये जाने वाली पारम्परिक भोजन है, इसे आप लंच, डिनर या छुट्टी के दिनों मे बना कर खा सकते हैं,लिट्टी सत्तू (भुना हुआ बेसन) और कुछ विशेष मसाले से भरा हुआ होता है, और इसे बैगन के चोखे या घी के साथ परोसा जाता है.

3. मालपुआ (Malpua)
अगर आप बिहार जाये तो मालपुआ जरुर खाये.मालपुआ काफी बेहतरीन और स्वादिष्ट होते है. इन्हें बनाने का तरीका बहुत ही आसान है. मालपुआ को रबड़ी और खीर के साथ भी खाया जाता है.और इन्हें खीरपुआ भी कहा जाता है.

मालपुआ बनाने की बिधि : मालपुआ घी में तली हुई मैदा, दूध, केला, कसा हुआ नारियल, काजू, किशमिश, चीनी, पानी और हरी इलायची का एक संयोजन से तैयार किया जाता है.

4. दालपूरी (Dalpuri)
बिहार की पारम्पारिक भोजन में से एक है,दालपुरी को गेहूं के आटे से बना रोटी है, इसमे उबला हुआ दाल को आंटे में भर कर तेल मे फ्राई किया जाता है.
5. मखाना खीर (Makhana Kheer)
यह उत्तर बिहार के दरभंगा क्षेत्र का फेमस रेस्पी है. यह दूध, चीनी और मखाना के साथ बनाये जाने वाली एक स्वीट डिश/खीर है
6. खाजा (Khaja)
बिहारसरीफ से लगभग 15Km.  और राजगीर से 8 किमी दूर स्थित Silao गांव है, जो खाजा बनाने के अपने प्राचीन परंपरा के लिए जाना जाता है. Chandshahi गोल Palvidar और गांधी Topa मैदा (गेहूं-आटा), चीनी और घी के साथ तैयार एक मिठाई, यह कई किस्मों में उपलब्ध है, आयताकार आकार के खाजा बिहार में सबसे अधिक लोकप्रिय है. 
7. बालूशाही (Balushahi)
मुजफ्फरपुर सीतामढ़ी के पास रूनी सैदपुर गाँव है, जो बालूशाही के लिए बहुत प्रसिद्ध है, बालूशाही घी के साथ पकाया जाता है, जो मैदा गेहूं मंजिल और चीनी की एक विशेष इलाज संयोजन की मीठी शामिल हैं
8. पेरुकिया (Perukia)
पेरुकिया छपरा बिहार के लिए बहुत प्रसिद्ध है,यह चीनी,खोआ और सूजी ,मैदा ,पानी और घी के मिश्रण के साथ तैयार किया जाता है.
9. ठेकुआ या खजुरि (Thekua/Khajuri) 
ठेकुआ Thekua मैदा और चीनी से बनाया जाता हैं,और घी में मैदा के संयोजन और चीनी के द्वारा, केवल विशेष अवसरों पर तैयार कर रहे हैं.
और भी जैसे निचे आपको दिखाया गया है.  
  • चंद्रकला  (Chandrakala)
  • चना घुगनी  (Chana Ghugni)
  • लौंग लता  (Laung Latika)
  • पीठा (Pittha)

About Author

{twitter#https://twitter.com/paliganjtimes} {google-plus#https://plus.google.com/108023997769411835514/posts} {youtube#http://youtube.com/paliganjtimes}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget