क्या है, महिला कंडोम

संभोग करने के दौरान पुरुष अगर कंडोम पहनना नहीं चाहते है, तो सुरक्षित सेक्स के लिए महिलाएं भी कंडोम का इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन महिलाएं कंडोम को लेकर हमेशा उलझन में रहती हैं, कि उन्हें कंडोम का उपयोग करना चाहिए कि नहीं.


और अगर महिलाएं कंडोम का इस्तेमाल करने के बारे में निश्चय कर भी ले तो वे इसे कैसे इस्तेमाल करने के बारे में उलझन में रहती हैं.

महिलाएं भी कंडोम को लेकर उलझन में रहती हैं,ये खासकर इसके हानिकारक होने के बारे में संदेह करते रहती हैं, महिलाओं को डर होता है कि कहीं इसका उल्टा प्रभाव हो गया और ये हानिकारक

  • निकल गए तो कहीं कंडोम से कोई गलत प्रभाव पड़ गया तो..
महिलाओं का ऐसा सोचना भी जायज है,ऐसा महिला कंडोम के बारे में पूरी जानकारी नहीं होने के कारण होता है.


# क्या है, महिला कंडोम

पुरुषों की तरह महिलाओं के लिए भी कंडोम आते हैं, जो महिलाएं संबंध बनाने के दौरान पहनती हैं, एक महिला कंडोम का यौन रोग और गर्भ से बचने के लिए किया जाता है,अगर इसे सही तरीके से उपयोग किया जाये, तो पूरे साल के तहत महिला कंडोम से गर्भ धारण से 95% तक सुरक्षा प्रदान कर सकता है.

# संभोग बनाने में सहायक कंडोम

महिला कंडोम का इस्तेमाल उन महिलाओं के लिए काफी सहायक हो सकता है, जिनका वजाइना बहुत अधिक ड्राय होता है, दरअसल महिला कंडोम में पहले से ही चिकनाई होती है, उनमें सिलिकोन आधारित स्परमिसिडिल रहित चिकनाई होती है, इससे कंडोम को लगाने में आसानी होती है, लेकिन कई बार ज्यादा जरूरत पड़ने पर बेबी ऑयल का भी प्रयोग किया जा सकता है.

# नहीं किया जाता दोबारा इस्तेमाल 


ये पुरुष कंडोम की तरह ही है, मतसब की पुरूष कंडोम की ही तरह महिला कंडोम को भी दोबारा प्रयोग नहीं किया जा सकता, साथ ही इनकी अंतिम तिथि लगभग पांच साल तक होती है, महिलाओं के कंडोम के लिए किसी विशेष सावधानी की जरूरत नहीं पड़ती जैसे पुरूष कंडोम के लिए पड़ती है.
 

कई बार पुरुषों के रबड़ से एलर्जी होने के कारण वो कंडोम का इस्तेमाल नहीं कर पाते, ऐसे में जिन महिलाओं के पार्टनर को रबड़ से एलर्जी है उनके लिए महिला कंडोम अच्छा है, यानी अगर पार्टनर को पुरूष कंडोम से एलर्जी है, तो उसकी साथी महिला कंडोम लगाकर सुरक्षा बरत सकती है.

 

  • लेकिन क्या आप जानते हैं, महिला कंडोम की विशेषता है, कि वह संभोग के समय आराम से प्रयोग किया जा सकता है, साथ ही गर्भ निरोधक विकल्प के रूप में यह बेहतर विकल्प है.
  • महिला कंडोम लम्बी पोलीस्थ्रेन की थैली होती है, यह अनचाहे गर्भ से बचाने के लिए कारगर है.
  • महिला कंडोम की विशेषता है, कि यह दोनों किनारों से लचीला होता है, इतना ही नहीं महिला कंडोम में पहले से ही सिलिकोन आधारित चिकनाई लगी रहती है.
  • महिला कंडोम को बहुत ही सावधानी से खोलकर सही तरह से उपयोग करने के लिए उसको ठीक तरह से लगाना चाहिए.
  •  शुरूआत में महिला कंडोम का प्रयोग मुश्किल होता है, लेकिन धीरे-धीरे अभ्यास से इसे आसानी से प्रयोग किया जा सकता है.
  • महिला कंडोम भी गर्भनिरोधक विकल्प के रूप में बेहतर है लेकिन जो महिलाएं पहली बार कंडोम का प्रयोग करती हैं उनका ध्यान सेक्स में कम कंडोम की तरफ ज्यादा होता है.
  •  महिला कंडोम उसी समय प्रयोग हो सकता है जब पुरूष कंडोम का प्रयोग न हो.
  •  महिला कंडोम से पुरूष सेक्स के दौरान वैसा ही आनंद प्राप्त कर सकता है जैसा कि बिना कंडोम के
  •  गर्भनिरोधक विकल्प के रूप में बना महिला कंडोम बहुत ज्यादा लुब्रीकेटिड है, जिससे इस पर बहुत ज्यादा तापमान का असर नहीं पड़ता.

पुरूष कंडोम जैसे तुरंत प्रयोग किया जाता है, महिला कंडोम के साथ ऐसा कुछ नहीं है। महिला कंडोम की अपनी अलग विशेषताएं है, इसीलिए अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए महिला कंडोम का इस्तेमाल बेहतर है। हालांकि महिला कंडोम बहुत ज्यादा सफल नहीं हुआ है, लेकिन जो पुरूष कंडोम का प्रयोग करने से कतराते हैं, उनकी महिला साथी कंडोम का प्रयोग कर सकती है.

What do you say ?

Post a comment

Please share your thoughts...

Note: only a member of this blog may post a comment.

About Author

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.