पालीगंज में धूम-धाम से होलिका दहन किया गया

पालीगंज में होलिका दहन के दौरान सैंकडो ग्रामवासियों ने एक साथ जुटकर होलिका को दहन किया,उसी  दौरान भव्य अग्नि प्रज्वलित हुई,



होलिका दहन 

होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है, होली का त्योहार बुराई और अच्छाई के रूप में प्रहलाद की जीत के रूप में मनाया जाता है, होली की एक कहानी भी है, कहा जाता है कि हिरण्याकश्यप नाम का राजा था, उसने अपनी प्रजा को आदेश दिया था, कि वह भगवान की जगह उसकी पूजा करें, लेकिन उसका बेटा प्रह्लाद भगवान विष्णु का परम भक्त था और उसने अपने पिता के इस आदेश को न मान कर भगवान के प्रति अपनी आस्था हमेशा बनाए रखी, एक दिन हिरण्याकश्यप ने अपने बेटे को सजा देने का फैसला किया, होलिका हिरण्याकश्यप की बहन थी अपने भाई की बात मनाते हुए होलिका प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ गई, होलिका के पास एक ऐसा कपड़ा था, जिसे वह अपने ​शरीर पर लपेट लेती थी तो आग उसे छू भी नहीं सकती थी.



प्रहलाद आग में बैठने के दौरान भगवान विष्णु का स्मरण करते रहे, उसके बाद होलिका का वह कपड़ा उड़कर प्रह्लाद के उपर आ गया जिसकी वजह से उसकी जान बच गई और होलिका आग में जलकर भस्म हो गई, तभी से होली के अवसर पर होलिका दहन की यह प्रथा चली आ रही है, होलिका दहन सूरज ढलने के बाद प्रदोष काल शुरू होने के बाद जब पूर्णमासी तिथि चल रही होती है, तब किया जाता है,

इस साल होलिका दहन 12 मार्च 2017 को शाम 6 बज कर 32 से 8 बजकर 50 मिनट तक किया जाएगा
Labels:
What do you say ?

Post a Comment

Please share your thoughts...

About Author

{twitter#https://twitter.com/paliganjtimes} {google-plus#https://plus.google.com/108023997769411835514/posts} {youtube#http://youtube.com/paliganjtimes}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget