May 2016

केन्द्र सरकार के दो सालो के सफलतापूर्वक पुरे होने के उपलक्ष में केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव के मौजूदगी में चंदोस हाई स्कुल के खेल मैदान पर आयोजित प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व केंद्र सरकार की दो सालो की कार्यकाल को सफल बताते हुए केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव ने कहा की यह सरकार विकास की नई उड़ान के साथ मेरा देश बदल रहा है,



ये सरकार हर मोर्चे पर सफलता पाई है, चाहे वह जनधन योजना हो या बेटी बचाओ अभियान हो, या बीपीएल परिवारो को मुफ़्त गैस कनेक्शन हो, डाक जीवनबीमा हो,या 12 रुपए में दो लाख की सुरक्षा बीमा हो, यह सरकार गरीबो के लिए काम कर रही है भरष्टाचार को खत्म किया है, 




स्वच्छता अभियान विदेशी पूंजी निवेश विदेश निति रोजी रोजगार शिक्षा समेत कई क्षेत्रो में मोदी जी के नेतृत्व में यह देश अभूतपूर्व सफलता प्राप्त किया है,वही इस अवसर परिचर्चा फोटो प्रदर्शनी सह प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता नुक्कड़ नाटक के समेत कई कार्यक्रम के माध्यम से केंद्र सरकार के सफल कार्यक्रमो को दिखया गया ।जिसे लोगो ने देखा ।इस अवसर पूर्व विधायक रामजन्म शर्मा, अनिल शर्मा बिरजा प्रसाद यादव ,शशिकान्त आर्या ,विभूति यादव ,रणधीर यादव ,मनोज कुशवाहा ,मोहन चौधरी जैसे कई स्थानीय नेताओं की हजारो लोगो के साथ मौजूदगी था

पालीगंज अनुमंडल के सिगोडि थाने क्षेत्र के पत्रिंगा गांव में बीती रात 11 बजे बालू लदे ट्रक के ड्रावर ने एक जेसीबी के मुंशी को कुचल कर हत्या कर दिया,जानकारी के अनुसार बीती रात एक ट्रक जिसका ड्रावर उसी गांव के रहने वाला था,पुनपुन नदीं घाट से अवैधरूप से बालू लादकर बहार आते समय रस्ते में ट्रक खेत में फंस गई,ड्रावर ने फसे ट्रक को निकलने के प्रयास किया परंतु नही निकल सका,थक हार के बगल में खड़ी जेसीबी से निकालने के लिए उसके मुंशी को फोन कर बुलाया और उससे 15 सौ में निकालने की सौदा हुवा और जब गाड़ी निकल गई,तो जेसीबी के मुंशी ने पैसे की मांग किया तो ट्रक ड्रावर ने पैसे देने इनकार कर दिया,
इसी बात को लेकर विवाद हो गया और जब मुंशी ने अपने मोटरसायकिल से घर जाने लगा तो पीछे से ट्रक ड्रावर ने जोदर धक्का मारते हुए, सर को कुचल दिया जिसमे उसकी मौत घटना मृतक युवक शिवा बिगहा - कल्पा थाना ( जहानाबाद जिला )के रहने वाला बताया जाता है.


इस घटना से आक्रोशित परिजनों ने मुवावजे के साथ घटना स्थल पर वरीय पदाधिकारियो के आने की माँग को लेकर कई घंटे लाश को उठने नही दिया ,घटना स्थल पर सुबह से ही पहुची पुलिस ने कई बार शव उठाने की कोशिश किया तो उग्र ग्रामीणों ने इस पर कड़ी आपत्ति जताया, इस बिच कई बार पुलिस और ग्रामीणों में झड़प भी हुई, जिसमे ईंट पथ्थर और लाठी डंडे चली, पुलिस ने जब जबरदस्ती शव उठाने की प्रयास किया इसी लिए ग्रामीण उग्र हो गए.



पुलिस और ग्रामीणों के बीच कई राउंड गोलोबारी भी चला स्थिति काफी भयावह और तनावपूर्ण रही इस नोक झोक में पुलिस ने एक दर्जन महिलाओ के साथ मारपीट किया जिसमे कई जख्मी भो हुए, इसके प्रतिरोध में उग्र ग्रामीणों ने पुलिस की भी पिटाई कर दिया,कई घंटे उतार चढाव के बाद किसी तरह पुलिस ने शव को जोर जर्दस्ती कर अपने कब्जे लेकर किसी तरह थाने लाई.



पुलिस इस घटना की जाँच में जुटी है,लेकिन यह पार्थमदृस्ता देख्ने से जितनी आसान दिख रही है उतनी है नही ,क्योकि पुलिस कहती है,की इस घात से ट्रक के द्वारा बालू लोडिंग होने की सुचना नही है, अगर पुलिस सच कह रही है, तो इस बयान से कुछ और ही कहानी उजागर होने की बात आ सकती है.



पता लगने की लगाने की गई, तो इसमें बालू माफिया और अवैध रूप से खनन की मामला हो सकते है,थाने से मात्र एक किलोमीटर की दुरी के अंदर वो सामने वाली गांव में पुलिस थाने के ठीक सामने है, पुलिस की यह हजम होने लायक नही है,यहाँ से भी ट्रक लोडिंग होते एक बात स्पष्ट प्रमाणित होते है,पुलिस की मिली भगत से अवैधरूप से बालू उत्खनन होते होंगे और रात में और पुलिस उसे अपने ओर से सनरक्षित कर राखी हो,इसी के विरुद्ध में जब पता चलने पर बालू घाट के ठेकेदार ने आदमी भेज कर ट्रक को रोकने के प्रयास किया होगा ,अपनी पकडे जाने पर की डर से इस घटना को अंजाम दे दिया होगा ,इसमें वर्चस्व की लड़ाई की भी नतीजा हो सकता है,अगर निष्पक्ष जाँच हो तो कई राज खुल कर सामने आ जाएंगे इसकी पूरी सम्भावनाएँ है

पालीगंज अनुमंडल मुख्यालय बाजार हाई स्कुल खेल मैदान के सामने बीती रात महादलित झोपड़पट्टी में रात्रि दो बजे सड़क किनारे 33 हजार बिजली के खम्भे में एक तेज गति से आ रही ट्रक के ड्रावर के अचानक अनियंत्रित हो जाने से टकरा गई.

जिससे एक बड़े हादसे होने से बाल बाल बच गया,इस हादसे में कई बिजली के खम्भे के साथ तार टूट कर बिखर गए, और दो तीन झपडियो को अपने आगोस में लेते हुए तोड़ डाले,उस समय बिजली के खम्भे में बजली प्रवाह हो रही थी, लगभग आधे घंटे तक प्रवाह होते रहे और इस बीच आपस में तार की घर्षण होने आग लग गए स्पार्क होते रहे.


इस बीच ट्रक के जोरदार टक्कर की आवाज सुनकर बगल में सोए दो दर्जन महिला,छोटे छोटे बच्चे और पुरुष की नींद टूटी तो हड़कम्प मच गया काफी देर तक अफरातफरी के माहौल रहा लोग अपनी अपनी जान बचाने के लिए इधर उधर भागने लगे.


घटना की सूचना के बाद पुलिस पहुच बिजली मिस्त्री को काफी मस्कत के बाद बजली को प्रवाह को कटवाया,तब जाकर लोगो ने राहत की सास लिया नही तो आग अगर बगल के दर्जनों झोपड़पट्टीयो में लग जाती तो उसमे रात्रि के समय होने से दर्जनों लोगो की जान चली जाती वही सबसे पहले तो इस ट्रक से एक बड़ा हादसा टला वो ये की जिस खम्भे में टक्कर ट्रक ने मारी उसकी दो टुकड़े हो गए और ट्रक उसी पर जा लटकी नही तो मात्र एक कुछ ही दुरी पर बगल में सोए महादलित परिवार के दो दर्जन से अधिक लोगो को अपने आगोश लेकर कई जाने ले लेती ।खैर ऊपर वाले के कृपा से बड़े अनहोनी होने से टल गया.



वही कई आसपास के लोगो ने बातया की बिजली के खम्भे काफी जर्जर और काफी पुराने नीचे की ओर है ,इसकी शिकायत बार बार बिजली विभाग को किया गया लेकिन विभाग के पदाधिकारियों के मनमाने रवैए से नही बदला जा रहा है ,जबकि उसके आसपास कई गरीबो के सड़क किनारे गरीब खाने है जो हरदम अपनी जान संगीनों के साए ने जीने को बेब्स और लाचार है ।नितीश सरकार लाख दलित और महादलित के विकाश की बात करते हो परन्तु लालफीताशाही और पदाधिकारीयो के मनमाने रवैए से कोई किसी के नही सुनने वाला नही है,

Paliganj : आंखों को लेकर कुछ लोग बहुत ही लापरवाह होते हैं, और आंख में हल्के-फुल्के दर्द या समस्या को नजरअंदाज कर देते हैं,लेकिन आपकी ये आदत भारी पड़ सकती है,मोहन प्यारे.....और इससे कई समस्‍यायें हो सकती हैं

क्या आप जानते है,आंखों के दर्द का कारण
[ads-post]

  • क्या है,आंख में दर्द के कारण
आंख अनमोल हैं,और शायद इस लिये ही ये शरीर का सबसे नाज़ुक और महत्वपूर्ण अंग हैं, आंखे जितनी अनमोल हैं, इनको देखभाल की भी उतनी ही जरूरत होती है,बहुत से लोग अपनी आंखों को लेकर बहुत ही लापरवाह होते हैं,और आंख में हल्के-फुल्के दर्द या समस्या को नजरअंदाज कर देते हैं,लेकिन आपकी ये आदत भारी पड़ सकती है,तो आंखों के दर्द को नज़र अंदाज न करें मोहन प्यारे...और जानें कि आंख में क्यों दर्द हो रहा है.

  • आंखों की ऊपरी सतह पर दर्द
कई बार आपकी आंख की ऊपरी सतह पर दर्द होता है, और आपको इससे आंख में जलन, और खुजली भी महसूस होती है,यह अक्सर तब होता है,



जब आपको आंख में कोई चोट लगी हो,इस तरह का दर्द होने पर आप डाक्टर की सलाह पर आई ड्राप का इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • आंखों के अंदर भाग में दर्द
आंखों के भीतरी भाग में दर्द होने पर आप अपनी आंखों में स्पंदन और किरकिरेपन जैसा महसूस करते हैं, 



इस तरह की स्थिति तुरंत में डॉक्टर से मिले क्योंकि यह किसी गंभीर चोट की वजह से होने वाला दर्द हो सकता है.

  • आँखों में गंदगी की वजह से होने वाला दर्द
धूल मिट्टी से होने वाले दर्द से आंखों में खुजली होती है,और लाल हो जाती है,इससे बचने के लिए सबसे बढ़िया तरीका है,



आंखों पर ठंडे पानी की छिटे मार कर इन्हें धोएं,इससे आंखों की गंदगी साफ़ हो जायेगी,आंखों पर हाथ न लगाएं.

  • चोट की वजह से आँख में दर्द 
चोट लगने पर आंखों को सबसे ज्यादा हानि पहुंचती है,आंखों में जलन या बहुत तेज दर्द होना, इसका सबसे पहला लक्षण होता है,




यह बहुत तेज रोशनी या सूरज की किरणों से भी हो सकता है.


  • कांटेक्ट लेंस के कारण 
जब आप हर समय कांटेक्ट लेंस पहने रहते हैं,और इसे समय-समय पर साफ नहीं करते हैं तो इससे आंखों में जलन होने लगती है,




और कभी-कभी दर्द भी होता है,पुराने या इक्स्पाइरी कांटेक्ट लेंस पहने से आपकी आंखों में संक्रमण भी हो सकता है.


  • ग्लूकोमा के कारण 
ग्लूकोमा यानी काला मोतिया एक गंभीर नेत्र रोग होता है,यह धीमी गति से आंखों को हानि पहुंचने वाली बीमारी है,



इससे आंखों की ऑप्टिक नर्व को नुकसान होता है,और यदि समय रहते इसका इलाज न किया जाए,तो इससे आंखों की रोशनी भी जा सकती है.


पालीगंज बाजार किंजर मार्ग पर स्थानीय थाने के बगल में ठीक 300 गज की दुरी पर चंद्रवंशी नगर मोहल्ले के बिस्कुट व हल्दीराम भुजिया के हॉल सेल व्यवसाई सुरेन्द्र प्रसाद गुप्ता के घर बीती रात अज्ञात शातिर चोरो ने छत के ऊपर से सीढ़ी के माध्यम से घुसकर लगभग पांच लाख की सम्पति चुरा ले गए.


[ads-post]

जानकारी के अनुसार सुरेन्द्र प्रसाद ने बताया की कल रात हमलोग सभी परिवार घर में ताले बंदकर बीमार नतिनी को पटना देखने गए थे,वहाँ से जब आज दोपहर घर लौट कर आए और मेन दरवाजे के ताले खोलकर अंदर गए तो घर के सभी सामान अस्तव्यस्त देखा और रखे सामान की जाँच पड़ताल किया तो 75 हजार नगद रुपए ,15 चाँदी के सिक्के ,सोने के एक चैन ,अंगूठी ,मंगल सूत्र के साथ पांच थान जेवरात,दर्जनों कीमती साड़ी,के साथ कई और सामान नही थे,जिसे चोर चुरा ले गए जो लगभग पांच लाख की सम्पति होगी.


सुरेद्र जी ने बातया की घटना की सूचना 2 बजे लिखित पालीगंज थाना में दिया,एसएसपी से फोन पर को जानकारी देने पर पुलिस की नही आने की सूचना दिया और पीड़ित परिवार से भी बात करवाया तो उन्होंने सारी बात जानने के बात तत्काल पुलिस को भेजने की बात कही विधायक बच्चा बाबू से भीसे बात हुई, और पुलिस नही आने की सूचना के साथ ही घटना की उन्हें विस्तृत जानकारी दिया.


यह है,हमारी पालीगंज थाणे की पुलिस जो सूचना के कई घण्टो बाद भी जब बाजार में ही नही जाती तो दूर दराज के गांव में कैसे जाती होगी,यह थाणे सब कुछ भगवान भरोसे ही चलता दिखाई दे रहा है,पुलिस जब थाणे के बगल के लोगो को सुरक्षा मुहैया नही करा सकती तो बाकि जगहों की क्या हालत होगी, इसकी अंदाजा खुद लोग लगा सकते है,


पिछले एक हप्ते में थाने के आसपास की मुहल्लों में आधा दर्जन से अधिक चोरी की घटनाए हो चुकी है, दो दिन पहले ही एक एयरटेल कंपनी के टावर से बीस बैट्री को चोरो ने चुरा ले गए थे, ठीक कुछ ही दुरी पर आज दूसरी घटना घाटी इंस्पेक्टर सह थानेदार संजय कुमार सिन्हा की नाकामियो को पूरी तरह दर्शाता है,


जो पालीगंज के लीगों जे लिए गहरी चिंता की विषय है,एसएसपी मनु महाराज को इस पर कड़ी करवाई करनी चाहिए और दोषियो के विरुद्ध कड़ी करवाई करते हुए निकम्मे पुलिस पदाधिकारीयो को हटा कर अच्छे व साफ छवि के ईमानदार अफसर को भेजनी चाहिए,

जिलाधिकारी के सख्त आदेश की भी खुल्मखुला उलंघन करते पाए जा रहे है,अनुमंडल के सभी विभागों के पदाधिकारियो के द्वारा वे लोग ठान कर बैढ़ चुके है,की हम नही सुधरेंगे जिलाधिकारी कहते है,की कार्य संस्कृती में सुधार लाए नही तो सख्त करवाई होगी लेकिन एक कहावत देहाती है,कैसा रंग तेरा हम नही सुधरेंगे चाहे आप कुछ भी कर लो साहब.


[ads-post]

उल्लेखनीय है,की जिलाधिकारी संजय अग्रवाल ने मेरी ही खबर ( अस्पताल में कुव्यवस्था ) पर संज्ञान लेते हुए होली के बाद 25 मार्च को अचानक छापेमारी किया था,साथ ही सभी प्रखंडो में औचक निरीक्षण भी किया था,इसके बाद अनुमंडल अस्पताल के साथ अनुमंडल स्तरीय सभी पदाधिकारियो को जमकर फटकार लगाई थी,जिसमे उन्हें अपने कार्य संस्कृति में जल्द ही सुधार लाने की कड़ी दिशा निर्देश के साथ सख्त हिदायत भी दिया था,भविष्य में अगर इसी तरह की लापरवाही जारी रही तो कड़ी करवाई करेंगे.लेकिन ठीक इसके विपरीत ही दिखाई दे रही है,दो महीना बीतने के वावजूद भी ये लोग सुधरने के नाम नही ले रहे है.


जिसका जीता जगता उदाहरण है,आज की एक घटना जिसमे अनुमंडल अस्पताल के डॉक्टरों और उपाधीक्षक की घोर लापरवाही से एक डिलिवरी कराने आई रात को एक महिला और उसकी पेट की बच्चे की जान जाते जाते बची,उल्लेखीय बात ये है, की मुखिया उम्मीदवार व सामाजिक कार्यकर्त्ता राकेश कुमार दाश अपनी बहन संजू देवी को बच्चे की डिलिवरी के लिए पिछली रात अस्पताल में भर्ती किया था,रात में भर्ती के समय एक बार डॉक्टरों के द्वारा देखने के बाद सुबह 10 बजे तक कोई डाक्टरो ने सुधि नही लिया,जबकि उपाधीक्षक खुद मौजूद थे अस्पताल मे,सुबह 10 बजे तक अचानक महिला की तबियत ख़राब होने लगी,जब राकेश दाश ने डॉक्टरों के पास जा कर देखने की गुहार लगाई तो डॉक्टरों ने बच्चे की मरने की बात कह मरीज को अस्पताल से ले जाने को कहा,





इस बीच आप सोच सकते है,की एक मरीज के साथ इसतरह की वाकया हो तो उसके सगे सम्बन्धियो और परिजनों की क्या हालत हुई होगी,आनन फानन में यह अफवाह फ़ैल गया की बच्चे की मौत हो चुकी है,यह खबर आग की तरह फैलने लगी,विधायक जनता के प्रति जबाबदेह व जागरूक और समस्याओं के प्रति सजग जयवर्दन यादव उर्फ़ बच्चा बाबू ने फोन कर सुचना दिया,और देखने की बात कहा,इसकी तत्काल सूचना पर जब अस्पताल पहुचा तो वहा अफरा तफरी के माहोल था,उपाधीक्षक से मिलना चाहा तो बच्चे की खबर सुन ग़ायब मिले,
धरहरा के पास लार्डबुद्धा नरसिंग होम में मरीज को भर्ती किया तो वहा डॉक्टरों ने बच्चे की मरे होने से इंकार कर बच्चे की नब्ज सुस्त होने की बात कह तुरन्त ऑपरेशन की सलाह दिया और प्राथमिकी ईलाज प्रारम्भ कर ऑपरेशन की तयारी शुरू कर पटना से डॉक्टरों को जल्द बुलाया और ऑपरेशन कर बच्चे को बाहर निकाल कर माँ और बच्चे की जान बचाई और एक बड़े हादसे को टाल दिया.



अस्पताल में चार चार महिला डॉक्टर है,लेकिन कोई भी यहाँ रात में नही रहती जबकि रहने के हाल फिल्हाल ही नई फर्स्ट क्लास के आवास भी बनी है,जिलाधिकारी संजय अग्रवाल ने उपाधीक्षक को सख्त निर्देश दिया था, की ऑपरेशन की सुविधा हरहाल में जल्द मुहैया कराए और महिला डॉक्टरों की उपलब्धता 24 घण्टे होनी चाहिए,फिर भी कोई असर नही,सभी डॉक्टरों की उपाधीक्षक की मिलीभगत से गायब रहते है,क्योकि वे खुद ही फरार रहते है,

रक्षक ही बना बक्षक यह मुहावरे अक्षरस लागु होते है, पालीगंज अनुमंडल मुख्यालय बाजार के स्थित ठीक एसडीओ आवास और प्रखंड कार्यालय से सटे महज 100 गज की दुरी पर व्यापार मंडल भवन की कहानी पर इसके संतरी ने ही 20 वर्षो से अवैधरूप से कब्जे कर इसमें गाय ,भैस की खटाल खोल रखा है, इसके जमीन और आगे की कमरे में जानवरो की खाने के चारे भूसा घास और नेवारी रखे हुए है ,और मुर्गी और दर्जनों बकरिया भी पाले हुए है,



[ads-post]

1961 में स्थापित व्यापार मंडल की एक समय अपनी ही रॉब रुतबा था,इसकी खुद की गोदाम के साथ कार्यालय और इसमें प्रबन्धक ,अध्यक्ष के साथ साथ कई कर्मचारी और रात्रि परहरी भी इसकी देखरेख के लिए कार्यरत थे,एक समय इस व्यापार मंडल की पुरे पटना जिले में एक अलग ही पहचान थी,आज इसकी ये हालत है की 1989- 90 से प्रबन्धक आदित्य नाथ पांडेय के जाने के बाद से यहा किसी की तैनाती नही है,वर्तमान में प्रखंड बीसियो केशो प्रसाद सिंह इसके प्रभार में है, लेकिन नाम के है, वहीँ इसके अध्यक्ष विजय सिंह है,



अख्तियारपुर के पैक्स अध्यक्ष भी है,एक विक्रेता पदाधिकारी लालबहादुर सिंह है, धरहरा गांव के सन् 1965 से कार्यरत है,45 रुपए मासिक से अब 245 रुपए महीन के साथ काम कर रहे है,वो बताते है, की 20 वर्षो से 50 हजार वेतन की बकाया राशि भुगतान नही हुवा है,जबकि आज भी यह मुनाफे में चल रही है.

रक्षक की भक्षक वाली कहानी के तह में जाते है, एक रात्रिप्रहरी के तौर पर तैनात संतरी के रूप में कार्यरत थे,बेसरी राम जिन्हें बिस वर्ष पुर ही उस समय के वर्तमान प्रबन्धक आदित्य नाथ पाण्डेय ने निकाल दिया था,फिर वह आज तक इसपर अवैधरूप से इसकी 10 कट्ठे की जमीन व भवन को कब्जाए हुए है,



पूरी तरह से इस संतरी गिरफ्त में पाया हुआ दिखा, व्यापार मंडल की वर्तमान स्थिति इसप्रकार दिखाई दिया, इस भवन के बहरी सामने के कमरे में घास भूसे रखे मिले, नेवारी ने एक गाज गंजी थी,एक भीतर भी नजर आ रही थी ,जानवरो के नाद के साथ उसमे भैस को खाते हुए देखा ,भीतरी हिस्से में दर्जनों बकरिया और मुर्गी नजर आ रहे थे.

पालीगंज अनुमंडल क्षेत्र के खिदिमोड खनपुरा थाने के फतेहपुर गांव में महज एक मोटरसाइकिल के लिए एक नवविवाहिता रुन्ति देवी के हत्या के मामले दर्ज पिता डोमेन यादव ने किया है, जिसमे पति अनिल यादव ,सशुर अशोक यादव ,सास रीता देवी ,देवर अमरेश कुमार ,मामा संतोष कुमार और सुनय यादव को नामजद अभियुक्त बनाया है,पुलिस मामले की जाँच में जुटी है.

[ads-post]

जानकारी के अनुसार जहानाबाद के लक्ष्यो बिगहा गांव के निवासी डोमेन यादव ने बताया की दो वर्ष पूर्व ही उन्होंने अपने बेटी रुन्ति कुमारी को बड़े ही धूमधाम से हातेहपुर गांव निवासी अशोक यादव के पुत्र अनिल यादव से किया था, शक्ति अनुसार दान दहेज़ भी दिया था,
 
परन्तु शादी के ही कुछ दिनों बाद ही लालची ससुराल वाले सोने की चैन और मोटरसाइकिल दहेज़ में मांगने लगे और मेरी बच्ची के साथ मारपीट गाली गलौज करने लगे, इससे तंग होकर मजबूरन कुछ दिन पूर्व ही एक सोने की चैन दिया था,इसके वावजूद भी वे लोग मोटरसाइकिल की माँग करते रहते थे.मोटरसाइकिल नही देने पर दो दिन पूर्व जान से मारकर लाश को ठिकाने लगा दिया.

बिहार इंटर मीडिएट परीक्षा में पालीगंज अनुमंडल के बिक्रम प्रखंड के दतियाना निवासी अभियन्ता राकेश कुमार और शिक्षिका सपना सिंह के पुत्र अंकित कुमार ने 425 अंक लेकर 2nd टॉपर बनकर इस अनुमंडल के नाम रोशन किया.

 [ads-post]
दतियाना के आरपी कालेज के छात्र है,घर में शिक्षा की माहौल ने उसे पढ़ने के लिए खूब प्रेरित किया, वहीँ 426  अंक के साथ प्रथम तीन टॉपर बीएन इंटर कालेज भपतिहारी ,सुपौल के लोक चंद्र,जेडीआई कालेज बिष्णुपुर ( बेगुसराय )के अंशुमन मसकरा, और बीआर कालेज कीरतपुर राजाराम( वैशाली ) जिले के तीनो पहले स्थान पर रहे.

अंकित बचपन से ही पढ़ने में मेघावी रहा है, एक शिक्षित परिवार से आने वाला अंकित के आँखो में शुरू से ही कुछ कर गुजरने की तमन्ना थी, आज उसने सायन्स इंटरमीडिएट की परीक्षा में दूसरे साथ लेकर अपने माता पिता को गोरवान्वित किया है, पूर्व विधायक डॉक्टर उषा विद्यार्थी के भतीजे अंकित राज है, और दादा रामप्रवेश शर्मा शिक्षाविद रहे है,पूरा परिवार एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशिया मनाई,

इंटरमीडिएट सायन्स परीक्षा में टॉपर बना पालीगंज के मुस्लिम मोहल्ले के मजदुर किसान माता - पिता के पुत्र राजकीय उच्च इंटरमीडिएट विद्यालय ( मदनधारी सिंह ) के छात्र इमामुद्दीन आलम 407 अंक लेकर जिले अपने माता पिता के नाम रोशन किया.


[ads-post]जानकारी के अनुसार पिता बदरुद्दीन अंसारी गुजरात में पावरलूम फैक्टरी में मजदुर के काम करते है, तो माता रोशन बनो दुसरो के यहाँ बीड़ी बनाकर घर परिवार को चलती है,बड़ा भाई जैबुलुद्दीन अंसारी सिलाई मजदुर के काम करते है, छोटे भाई इमामुद्दीन को किसी तरह पढ़ाकर उसे अपने पैरो पर खड़ा करने के लिए दिन रात मेहनत मजदूरी कर दो भाई और तिन बहन की पढाई लिखाई और किसी तरह परवरिश करते है.



परिवार आज एक दूसरे को मिठाई खिलाकर खुशियों का इजहार किया,आज इस परिवार के इस लाडले ने बिहार के पटना जिले में टॉपर कर बेपनाह खुशियो की सौगात जो दिया है,

पालीगंज अनुमंडल मुख्यालय के प्रखण्ड कार्यलय के पास मोटरसाइकिल और विंगर के भिड़ंत में बालिपाकड़ के सुरेन्द्र मांझी गम्भीर रूप से जख्मी हो गया, वहीँ दूसरी घटना में अरवल जिले के शिवपुर गांव निवासी अपने रिस्तेदार के साथ पालीगंज आने के क्रम में मोटरसाइकिल के अचानक पलटी मारने से सरिता देवी जख्मी हो गई,

[ads-post]


दोनों जख्मियों की अनुमंडल अस्पताल डॉक्टरों द्वारा किया जा रहा है, घटना की सूचना के बाद मुखिया चन्द्रसेन वर्मा ने दोनों जख्मियों को अस्पताल में ले जाकर इलाज करवाया,पुलिस ने विंगर और मोटरसाइकिल को अपने कब्जे में लेकर घटना की प्राथमिकी दर्ज कर पूछताछ कर रही है.

Paliganj : ब्रैस्ट कैंसर या स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाली एक भयावह बीमारी है,हालांकि यह एक भ्रम है कि ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं में होता है, आज पुरूषों में भी इस बीमारी की संख्या बढ़ रही है, कैंसर से बचने का सिर्फ एक ही......वो है, जागरूकता
महिलाओं और पुरूषों में होने वाले इस कैंसर के वास्तविक कारणों का पता नहीं चल पाया है, लेकिन ऐसा अनुमान लगाया जाता है, कि यह हार्मोनल या अनुवांशिक कारणों से होता है,इसके बारे में इस लेख में विस्‍तार से चर्चा करते हैं.

बदलती जीवनशैली ने स्तन कैंसर जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ा दिया है,साल दर साल भारतीय महिलाओं में स्तन कैंसर का खतरा बढ़ता जा रहा है,एक अंग्रेजी मेडिकल जर्नल, द लांसर, के मुताबिक, भारत में 20 से 25 साल तक की लड़कियों में ये बीमारी बहुत तेजी से फैल रही है,लांसर के अनुसार भारत 2020 तक स्तन कैंसर रोगियों के आंकड़ों पर 5वां सबसे अधिक ग्रसित देश बनने वाला है,भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के चौंकाने वाले आंकड़े के अनुसार आज भारत में स्तन कैंसर की दर लगातार बढ़कर  प्रति 1 लाख औरतों में 10 से बढ़कर 23 तक पहुंच चुकी है,विशेषज्ञों के अनुसार ये आंकड़े आने वाले समय में बढ़ सकते हैं.


  • स्तन कैंसर महिलाओं में होने वाली एक भयावह बीमारी है,
  • 40 की उम्र के बाद इसके होने की संभावना बढ़ जाती है,
  • आयु बढ़ने के साथ स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ता है,
  • 5%-10% मामलों में स्तन कैंसर आनुवांशिक होता है,

स्‍तन कैंसर क्‍या है

स्तन कैंसर, असामान्य कोशिकाओं की एक प्रकार की अनियंत्रित वृद्धि है जो स्तन के किसी भी हिस्से में पनप सकता है यह निप्पल में दूध ले जाने वाले डक्ट्स (नलियों), दूध उत्पन्न करने वाले छोटे कोशों और ग्रंथिहीन ऊतकों में भी हो सकता है.



स्तन कैंसर से जुड़े तथ्य
  •  स्तन कैंसर किसी भी उम्र में हो सकता है, लेकिन 40 वर्ष की उम्र के बाद इसके होने की संभावना बढ़ जाती है.
  • अगर आपके परिवार में पहले से किसी को कैंसर रहा है, तो 40 वर्ष की उम्र के होने के बाद, साल में एक बार जांच ज़रूर करायें.
  • अगर आप धूम्रपान या मादक पदार्थो का सेवन करती हैं तो भी आपमें कैंसर की संभावना बढ़ जाती है.



स्तन कैंसर के कारण
  • आयु- आयु बढ़ने के साथ-साथ स्तन कैंसर होने का खतरा बढ़ते जाता है,
  • कोई कैंसर- यदि आपको पहले से कैंसर है या स्तन संबंधित रोग है तो इसका खतरा बढ़ जाता है,
  • हार्मोन - ओस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन नामक हार्मोन से लंबे समय तक संसर्ग में आने से स्तन कैंसर का खतरा बढ़ता है,
  • लाइफस्टाइल- अल्कोहलिक और अव्यवस्थित लाइफस्टाइल या अधिक वजन होना स्तन कैंसर का कारण बनता है,
  • जेनेटिकली- 5%-10% स्तन कैंसर जेनेटिकली प्राप्त किसी जीन के कारण होता है,

स्‍तन कैंसर के लक्षण
  1. स्तन पर या बांह के नीचे (  बगल में  ) उभार या मोटापन,
  2. निप्पल से पानी या खून जैसा रिसाव होना,
  3. निप्पल पर परत या पपड़ी बनना,
  4. निप्पल्स का अंदर की ओर धंसना,
  5. स्तन पर लालिमा या सूजन,
  6. स्तन स्किन पर किसी संतरे जैसी बनावट के गड्ढे बनना,
  7. स्तन की गोलाई में कोई बदलाव जैसे एक का दूसरे की अपेक्षा ज़्यादा उभर आना,
  8. स्तन की त्वचा पर कोई फोड़ा या अल्सर जो ठीक न होता हो,

ब से बतर हो रहे है हालात

25 साल पहले 100  ब्रेस्ट कैंसर के मरीजों में 2% मरीज 20 - 30 उम्र के थे।  7% मरीज 30 - 40 उम्र के थे, 69% मरीज 50 की उम्र के ऊपर के थे, वर्तमान में 4% मरीज 20 - 30 उम्र के हैं। 16% मरीज 30 से 40 के उम्र के हैं, 28% मरीज 40 - 50 की उम्र के हैं,इन आंकड़ों से आप खुद समझ सकते हैं कि 48% मरीज 50 की उम्र के नीचे हैं.

About Author

{twitter#https://twitter.com/paliganjtimes} {google-plus#https://plus.google.com/108023997769411835514/posts} {youtube#http://youtube.com/paliganjtimes}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.