October 2016

बॉलीवुड एक्टर " अजय देवगन " के डायरेक्शन में बनी फिल्म " शिवाय " एक पिता और बेटी की कहानी है और लीड रोल में अजय देवगन ही हैं,शुरुआत होती है,शिवाय ( अजय देवगन ) और ओल्गा ( एरिका कार ) के प्यार से,शिवाय एक पर्वतारोही हैं, और ओल्गा एक टूरिस्ट, जो बुल्गारिया से आई है.


  • अजय की 'शिवाय' है MUST WATCH, ये हैं,5 कारण
ओल्गा बुल्गारिया से भारत घूमने के लिए आई है,दोनों के बीच प्यार होता है,और कुछ दिनों बाद ओल्गा को पता चलता है,कि वो मां बनने वाली है,ओल्गा मां बनकर एक बच्चे की जिम्मेदारी नहीं संभालना चाहती है,और बेटी को जन्म देने के बाद बुल्गारिया वापस चली जाती है,शिवाय उस बच्ची को पालता है,और उसका नाम रखता है, गौरा ( एबीगेल एम्स ) रखता है,वो गौरा को बताता है, कि उसकी मां मर चुकी है, लेकिन एक दिन गौरा को सच्चाई का पता चल जाता है, और वो शिवाय से बुल्गारिया चलने के लिए कहती है.
  • CONFIRMED ' ऐ दिल है मुश्किल ' और ' शिवाय ' नहीं होंगी पाकिस्तान में रिलीज

शिवाय गौरा की बात मान जाता है, और दोनों ओल्गा से मिलने बुल्गारिया चले जाते हैं, ओल्गा का जो पता शिवाय के पास होता है, वो अब वहां नहीं रहती है,शिवाय ओल्गा की तलाश कर रहा होता है,कि उसी बीच गौरा का किडनैप हो जाता है,शिवाय को पता चलता है, कि बुल्गारिया में बच्चों को किडनैप कर उनको चाइल्ड ट्रैफिकिंग के लिए बॉर्डर पार रूस भेज दिया जाता है.

  • दिवाली बॉक्स ऑफिस पर दो महारथियों का टकराव, कमाई कटेगी या बंटेगी
अब शिवाय के पास सिर्फ 72 घंटे हैं गौरा को बचाने के लिए,गौरा को तलाशने में उसकी मदद अनुष्का ( सयेशा सहगल ) करती है, जो इंडियन अंबेसी में काम करती है, 'शिवाय' फिल्म अपनी कहानी से ज्यादा अपने जबर्दस्त एक्शन सीन और इमोशनल टच की वजह से ज्यादा आकर्षित करती है,एक डायरेक्टर के रूप में अजय देवगन की उपलब्धि यही है, कि उन्होंने एक्शन और इमोशन के बीच पूरा तालमेल बैठाने की कोशिश की है,फिल्म थोड़ी लंबी भी है,जो कई जगह खटकती भी है, फेस्टिवल सीजन के हिसाब से फिल्म थोड़ी इंटेंस है.


निर्देशक   :  अजय देवगन
निर्माता    :  अजय देवगन,सुनील लुल्ला
लेखक     :  संदीप श्रीवास्तव
पटकथा    :  संदीप श्रीवास्तव


अभिनेता   :  अजय देवगन, सयेशा सैगल,अली काज़मी,ज्बज़ फ़ारूक़,बिजौ थानगजेम,आकाश दाभड़े,एरीका कार,अबीगैल ईमेस.



छायाकार           :   असीम बजाज
संपादक            :   धर्मेन्द्र शर्मा
प्रदर्शन तिथि (याँ)  : अक्टूबर 28, 2016

भाषा  :   हिन्दी




  • " शिवाय " फिल्म 60 देशों में रिलीज












सड़क हादसे में दो युवकों की मौत के बाद पालीगंज अनुमण्डल मुख्यालय बाजार के "  शांतिनगर  " मोहल्ले में ऐसा शांति का सन्नाटा छाया गया, पुरे पालीगंज अनुमण्डल क्षेत्र के लोगो के लिए यह घटना काफी स्तब्धकारी और दुखद है, सब गली मोहल्ले चौक - चौराहे हो या हर घर में एक ही चर्चा यह "  सब कैसे हो गया  ", कल तक एक साथ रहने और तीनो दोस्त जीने मारने की कसमें खाते थे,उन्हें क्या पता था, कि यही दोस्ती उनकी कल बनकर आएगा.


दोनों युवकों भुनेश्वर मिस्त्री के नवलेश कुमार और सूरज प्रसाद गुप्ता के मनीष कुमार के घर एक ही

गली में है,लक्ष्मी पूजा के अवसर पर खुशियां मनाने के लिए डीजे ठीक करने गए थे,परन्तु वहीँ एक दुःस्वप्न बन एक कल रूपी मौत बन गया,इस घटना से दिनों परिवार के यहाँ मिलने वालों की ताता लगा हुवा है,जो भी इस दुखयारी परिवार से मिलने आ रहा है,परिजनों की रोने की करुंदन और कोहराम से हर किसी मिलने वालों के आँखों में आँसू झलके बिना नहीँ रहा है,काश ऐसी विपत्ति दुश्मनों के यहाँ भी नहीँ देना,यह हर किसी के जुबाँ से बरबस निकल रहे है.



मुख्यरूप से स्थानीय विधायक जयवर्दन यादव उर्फ भाई बच्चा बाबू ,जिलापार्षद अरविंद कुशवाहा ,माले नेता अनवर हुसैन समेत सैंकड़ो लोगो का ताता दिन भर लगा रहा,जो कोई भी यह दुखद घटना को सुन रहा है,सभी लोग दोनों परिवारो को इस दुखद घड़ी में अपनी शोक संतावना व्यक्त करते हुए दोनों परिजनों को धर्य और ढाढस बंधा रहा है.

पटना - औरंगाबाद NH -98 पर पालीगंज थाने क्षेत्र " भेड़हरिया इंग्लिस "  गांव के पास एक हाइवा ट्रक ड्राइवर अपनी गाड़ी के पंचर एक लाइन होटल पर बनवा रहा था,इसी बीच सुबह करीब पांच बजे 100 गज की दुरी पर खड़ी एक ट्रक में विपरीत दिशा औरंगाबाद से आ रही तेजगति से दूसरी ट्रक ने जोरदार टक्कर मारते हुए, पंचर बना रहा ड्राइवर को बुरी तरह से रौंदा दिया,जिसमें उसकी घटना स्थल ही मौत हो गई.



जानकारी के अनुसार पटना के दीघा थानाक्षेत्र के नकटा दियरा टोला निवासी ट्रक ड्राइवर प्रदीप कुमार ( राय ) अपनी हाइवा JH -11 K 6570  " से सहार से बालू लेकर पटना ले जा रहा था, भेड़हरिया इंग्लिस गाँव के पास एक लाइन होटल के पास उसकी ट्रक पंचर हो गई,टायर को लाइन होटल पर पंचर बना रहा था,सामने कुछ ही दूरी पर खड़े एक ट्रक PB -06 M-9925 को दूसरी तेजगति से फल लड़ी पटना जा रही ट्रक PB-06 V 7629 ने जोरदार भीष्म टक्कर मारते हुए, पंचर बना रहे ड्राइवर को रगड़ते हुए रौंद कर फरार हो कुछ दूरी पर एक महाबलिपुर गांव के पास गाड़ी खड़ी कर ड्रावर फरार हो गया.


 
घटना के सूचना के बाद पहुची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में क़ानूनी करवाई के बाद पोस्टमार्टम के लिए परिजन को सौप दिया,वहीँ काफी जडोजेहाद के बाद बीडीओ ने कई घँटे की नाकुर नुकुर करने के बाद बमुश्किल से 20 हजार परिवारिक सहायता राशि प्रदान किया,वही मुखिया राकेश दास ने भी तीन हजार कबीर अंत्योष्टि की राशि प्रदान किया.





बीडीओ प्रशांत कुमार को क्यों परिवारिक राशि दुर्घटना मारे गए परिजनों को देने में परेशानी होती है,बीडीओ का कहना था,कि मरने वाला दूसरे थाने क्षेत्र का है,इसलिए उसी क्षेत्र के बीडीओ ही यह देगा,करीब तीन घँटे तक मामले को लटकाए रखा,फिर पटना सदर बीडीओ से बात तो उन्होंने कहा कि यह बात नहीँ है, पालीगंज बीडीओ ही देगा,उसके बाद जब दोनों बीडीओ को एक दूसरे से बात करवा तो सदर बीडीओ ने इन्ही को देने को कहा,फिर उसके बाद पाली बिडियो ने 20 हजार की राशि दिया,एक बात तय है पाली बीडीओ को या तो सरकारी दिशा निर्देश जानकारी नहीँ है,या जानबूझकर देना नहीँ चाहते,यह एक गम्भीर मामला है,इस तरह की घटना कल भी दुल्हिन बाजार के हादसे भी हुई,इससे पहले एक माह पूर्व मिल्की नहर बंगला में भी एक महादलित मांझी परिवार के लड़के को करेंट लगने मौत हुई थी,लेकिन बीडीओ ने उसे परिवारिक राशि देने से इंकार किया था,क्योंकि उस गरीब के लिए कोई देखने वाला था.

साल 2015 पूरी तरह से फिल्म बाहुबली के नाम रहा,बाहुबली साउथ के सुपरस्टार्स से सजी फिल्म थी,वहीं अब " बाहुबली- 2 " को लेकर भी चर्चाएं तेज हैं,इस फिल्म की रिलीज डेट की भी घोषणा कर दी गई है.


फिल्म बाहुबली की रिलीज के दौरान ही बता दिया गया था,कि यह फिल्म दो हिस्सों में बनाई जाएगी, दर्शकों ने जब पहला भाग देखा,तब ही से दूसरे हिस्से को लेकर इंतजार चल रहा है,हालांकि अब फिल्मी गलियारों में खबर है,कि बाहुबली 2 की रिलीज का समय तय कर दिया गया है,फिल्मों के जानकार तरण आदर्श का मानना है,कि यह भी एक बड़ी सुपरहिट फिल्म साबित होगी.

तरण आदर्श ने ट्वीट कर बताया कि बाहुबली 2 की रिलीज डेट फाइनल हो गई है,यह 14 अप्रैल 2017 होगी,एसएस राजमौली इसका निर्देशन करेंगे,निश्चित रूप से बॉक्सऑफिस पर बड़ी फिल्म साबित होगी.


  • निर्देशक   : एस॰एस॰ राजामौली
    निर्माता    : शोबु यरलागड्डा, प्रसाद देवी नेनी
    पटकथा   : एस॰एस॰ राजामौली
    कहानी    : के॰वी॰ विजयेन्द्र प्रसाद


अभिनेता  :
  1. प्रभास - बाहुबली / शिवुडु
  2. राणा डग्गुबती - भल्लाल देव / पलवालथेवन
  3. अनुष्का शेट्टी - देवसेना
  4. तमन्ना भाटिया - अवंतिका
  5. रम्या कृष्णन - शिवगामी
  6. सत्यराज - कट्टप्पा
  7. नास्सर - बिजाला देव
  8. सुदीप - असलम खान
  9. अदिवि शेष - भदरुडु
  10. तनिकेल्ल भरनी - स्वामी जी
  11. रोहिणी - संगा
  12. प्रभाकर - कलकेय राजा
  13. राकेश वररे - भल्लाल देव का मित्र
  14. नोरा फतेही
  15. चरणदीप
  16. मेका रामकृष्णा


  • संगीतकार    : एम. एम. कीरावणी
    छायाकार     : के. के. सेंथिल कुमार
    संपादक      : कोटागीरी वेंकटेश्वर राव
    स्टूडियो       : अर्का मीडिया वर्कस


वितरक :
  • तेलुगु :
अर्का मीडिया वर्क्स
  • तमिल :
स्टुडियो ग्रीन
  • यूवी क्रेशन
हिन्दी :
  • धर्मा प्रॉड्कशन्स
मलयालम:
  • ग्लोबल यूनाईटेड मीडिया


प्रदर्शन तिथि (याँ) : अप्रैल 14, 2017


 

भाषा     :
  • तेलुगु
  • तमिल
  • मलयालम
  • हिन्दी

 
लागत    :  भारतीय रुपया 200 करोड़ ( US$29.2 मिलियन )

बिहार विकास आज श्रीकृष्ण बाबू के रास्ते पर चल कर सम्भव है,समाज में आज जिस प्रकार से विखण्ड की राजनीति हो रही है, जात - पात और धर्म सम्प्रदाय की इससे राजनीती से समाज प्रदूषित हो गया है, आज सिर्फ श्री बाबू के आदर्शों पर चलकर ही इससे निजात पाया जा सकता है,उक्त बातें पूर्व केंद्रीय मंत्री कॉंग्रेस के वरिष्ठ नेता अखिलेश प्रसाद सिंह ने पालीगंज में हाई स्कूल के सभागार में बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण बाबू के 129 जयंती के अवसर पर पटना के श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल में 21 ऑक्टूबर को आयोजित होने वाले समारोह के लिए आमंत्रण कार्यक्रम में बोल रहे थे.




उन्होंने कार्यकार्यताओ से 21 तारीख को आयोजित कार्यक्रम शामिल होने के लिए अधिक से अधिक लोग को आने की अपील किया,वहीँ पूर्व विधायक जनार्दन शर्मा ने इस अवसर पर उपस्थित गिने चुने लगभग नगण्य लोगो पर आयोजकों को से गहरी नाराजगी व्यक्त किया,उन्होंने कहा कि आज देश संक्रिन राजनितिक दौर से गुजर रहा है,श्रीकृष्ण बाबू जात और धर्म की राजनीति नहीँ करते थे, वे जमात की राजनीति किया करते थे,आज उन्ही के आदर्शों को अपना कर बिहार को विकास की राह पर ले जाया जा सकता है.

पिछले चार साल के दौरान प्रतिदिन 550 नौकरियां गायब हुई हैं,यदि यही सिलसिला जारी रहा तो 2050 तक देश में 70 लाख रोजगार समाप्त हो जाएंगे, एक अध्ययन में यह दावा किया गया है.



दिल्ली के सिविल सोसायटी समूह " प्रहार " के अध्ययन में कहा गया है,कि देश में आज किसान, छोटे खुदरा विक्रेता, ठेका श्रमिक तथा निर्माण श्रमिक अपनी आजीविका पर ऐसे खतरे का सामना कर रहे हैं, जैसा उन्होंने पहले कभी नहीं देखा, समूह ने एक बयान में कहा, श्रम ब्यूरो के 2016 के शुरू में जारी आंकड़ों के अनुसार, 2015 में देश में रोजगार के सिर्फ 1.35 लाख नए अवसरों का सृजन हुआ,2013 में 4.19 लाख तथा 2011 में नौ लाख अवसरों का सृजन हुआ था.



प्रतिदिन रोजगार के 550 अवसर समाप्त हो रहे :

आंकड़ों को देखें तो रोजगार के 550 अवसर प्रतिदिन समाप्त हो रहे हैं,इसका मतलब है, कि 2050 तक देश में 70 लाख रोजगार समाप्त हो जाएंगे, जबकि इस दौरान देश की आबादी 60 करोड़ बढ़ चुकी होगी.

नाश्ते में पराठे खाना सभी पसन्द करते हैं, और अगर ये पराठे पालक के हों तो,और भी ज्यादा स्वादिष्ट लगेंगे. आईये हम आज पालक के परांठे बनाते हैं.



आवश्यक सामग्री :
  •     गेहूँ का आटा             :   2 कप (300 ग्राम)
  •     पालक                    :  बारीक कटा हुआ 2 कप ( 200 ग्राम )
  •     जीरा                      :  आधी छोटी चम्मच
  •     नमक                     :  आधी छोटी चम्मच से थोड़ा सा ज्यादा  ( स्वादानुसर )
  •     रिफाइन्ड तेल             :  एक टेबल स्पून आटे में डालने के लिये और पराठे सेकने के लिये




बनाने की विधि :
  • पालक की डंडियाँ तोड़कर साफ करके, पत्तों को साफ पानी से अच्छी तरह 2 बार धो लीजिये.
  • धुले पत्ते किसी छलनी या थाली में रखकर उसे तिरछा कर दीजिये, ताकि पत्तों से पानी निकल जाय.
  • अब पत्तों को बारीक काट लीजिये.
  • आटे  में नमक, जीरा, पालक और तेल डाल दीजिये.
  • पानी की सहायता से नरम आटा गूथ लीजिये. 
  • आटा गूथने के लिये आटे की मात्रा का आधा पानी लगता है,लेकिन इसमें पानी की मात्रा कम लगेगी,क्यों कि पालक में पानी होता है. 


गुंथे हुये आटे को 10 मिनट के लिये ढककर रख दीजिये : 
  • अब आटे से परांठे बनाइये, तवा गरम कीजिये,
  • और आटे से थोड़ा सा आटा निकाल कर लोई बना लीजिये.
  • और उसे करीब 5 या 6 इंच व्यास में बेलिये.
  • बेले हुये पराठे पर चम्मच से तेल लगाइये और  मोड़ दीजिये.
  • यह आपको आधा गोला जैसा दिखाई देगा.
  • अब इस आधे गोल पराठे पर फिर से थोड़ा सा तेल लगाइये और मोड़ दीजिये.
  • अब ये एक तिकोन जैसा आकार बन जाता है, अब इसे सूखा आटा लगाकर तिकोने ही आकार में पतला बेल लीजिये और तवे पर सेकिये.
  • पराठे के दोनों तरफ चमचे से तेल लगाना है,और कलछी की सहायता से दबाकर खस्ता सेकना है.



आलू टमाटर की सब्जी,या आलू मटर की तरी वाली सब्जी के साथ या दही और चटनी के साथ परोसिये और खाइये.




इंतजार खत्म हुआ और बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान की इस साल की मोस्ट अवेटेड फिल्म " दंगल " का ट्रेलर रिलीज हो गया है,उम्मीद के मुताबिक ये ट्रेलर धमाकेदार है.


ट्रेलर देखकर पता चलता है, कि ये फिल्म आमिर खान की नहीं बल्कि इसमें उनकी बेटियों का किरदार निभा रही फातिमा शेख और सान्या मल्होत्रा की है,ये फिल्म बेटियों के बारे में है, जैसा कि इसमें एक डायलॉग है,भी है, " गोल्ड तो गोल्ड होता है छोरा लावे या छोरी "ट्रेलर की शुरूआत होती है,जो फिल्म " सुल्तान "की याद आ जाती है,वजह है,वो पुराना स्कूटर जो फिल्म से सलमान खान चलाते दिखते हैं,कुछ वैसे ही विजुअल्स के साथ इस ट्रेलर की भी शुरूआत होती है, लेकिन चंद सेकेंड में ही आप " सुल्तान " को बिल्कुल भूल जाएंगे और सिर्फ इस फिल्म के बारे में सोचने लगेंगे,ट्रेलर देखने के बाद ये कहा जा सकता है,कि सलमान खान की " सुल्तान "औऱ आमिर खान की फिल्म " दंगल " में तुलना करना बेमानी है.


ट्रेलर में कुछ डायलॉग तो बहुत ही शानदार हैं,जिन्हें आप भूल नहीं पाएंगे,

जैसे कि " मिसाले दी जाती हैं, बोली नहीं जातीं…" और भी कई हैं,जिसे आप खुद देखिए औऱ इन्जॉय कीजिए.





इस फिल्म को नितेश तिवारी ने डायरेक्ट किया है,और ये सच्ची कहानी है, जो दिग्गज पहलवान महावीर सिंह फोगाट के जीवन पर आधारित है,इसमें बताया गया है,कि फोगट सिंह किस तरह तमाम संघर्षों के बीच अपनी दोनों बेटियों- गीता और बबीता को पहलवानी में प्रशिक्षित करते हैं, और उनकी बेटियां कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक हासिल करने में कामयाब होती हैं.


  • निर्देशक                : नितीश तिवारी
  • लेखक                   : नितीश तिवारी
  • संगीतकार              : प्रीतम
  • प्रदर्शन तिथि (याँ)    : 23 दिसम्बर 2016

 


कलाकार :
  1.     आमिर खान                 : महावीर सिंह फोगत
  2.     साक्षी तंवर                   : दया कौर
  3.     फातिमा सना शेख         : गीता फोगत
  4.     सन्या मल्होत्रा               : बबीता कुमारी
  5.     राजकुमार राव
  6.     ज़रीना वसीम
  7.     सुहानी भटनागर
  8.     विक्रम सिंह
  9.     अपरशक्ति खुराना
  10.     गौतम गुलाटी


फिल्माना : इसके फिल्माने का कार्य 1 सितंबर 2015 से शुरू हुआ,इस फिल्म के स्थल को लुधियाना के गांवों में रखा गया और उसे हरियाणवी रूप दिया गया,इसके बाद फिल्माने का कार्य किला रायपुर, पंजाब और हरियाणा में किया गया,सितंबर 2015 और दिसंबर 2015 के मध्य आमिर खान ने अपना 9% चर्बी बढ़ा कर अपना वजन 98 किलो कर दिया.


पात्र चुनाव : अप्रैल 2015 को फातिमा साना शेख और सन्या मल्होत्रा को महावीर फोगत के पुत्री के किरदार के लिए चुना गया,जून 2015 को बाल कलाकार में ज़रीना वसीम को जम्मू कश्मीर और सुहानी भटनागर को दिल्ली से लिया गया,आयुष्मान खुराना के भाई अपरशक्ति खुराना भी इस फ़िल्म से जुड़ गए, विक्रम सिंह इस फ़िल्म में एक खलनायक की भूमिका में दिखाई देंगे,दंगल के लिए आमिर ने अपना कुछ किलो वजन घटाया और साथ ही हरियानवी सीखी.





पालीगंज अनुमण्डल क्षेत्र मेरा -पतौना पंचायत के पतौना गाँव के एक बेहद गरीब और बेशहारा परिवार की भुखमरी से घर के मालिक एकलौता मेहतन मजदूरी कर परिवार का पेट भरने वाला वृद्ध शिवनाथ मोची के भूख से कई दिनों तक तड़पने के बाद हुई मौत के बाद उसके पतोहू देवन्ति देवी की भी भुखमरी से मौत के कगार पहुचने के बाद इसकी खबर के बाद अनुमण्डल प्रशासन ने ईलाज के लिए अनुमण्डल अस्पताल में भर्ती किया गया था.

कई दिनों से अनुमण्डल अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा ईलाज के उपरांत अब स्वस्थ्य हो रही है,अब देवन्ति देवी उठने बैठे और बातचीत करने लगी है,ख़ुशी जाहिर करते हुई ,ताई की अब पहले काफी ठीक है,लेकिन खून की कमी है,जिससे वह काफी कमजोर है,वह जिस प्रकार समाज से मदद मिली उससे वह काफी खुश और प्रंसता जाहिर किया और सभी को तहे दिल धन्यवाद और आशीर्वाद दिया.

उस पीड़ित परिवार को अभी और कई और तरह के सख्त मदद की आवश्यक्ता है,जिसमें देवन्ति देवी को खून की सख्त जरूरत है,साथ उसके पति कुष्ठ रोग से ग्रसित उसके हाथ और पैर जिसमें की घाव हो चुके है उसमें कीड़े लग गए उसे बेहतर इलाज की सख्त जरूरत है.

एक अहम बात जब आज मैं अस्पताल में इस परिवार से मिलने गया और उसके हालचाल पूछताछ के क्रम पीड़ित देवन्ति देवी के पति राजिंदर मोची ने बताया अस्पताल से मिल रही सुविधाओं से संतुस्ट हूँ, पूछा गया की समाज के लोगो से मिल रही कुछ आर्थिक मदद कौन लेकर रख रहा है,तो उसपर रजिंदर ने बताया गांव ही कुछ लोग उस पैसे को ले लिया और कहा कि हम रख देंगे जरूरत पड़ने पर हम दे देंगे, जब इसकी पड़ताल किया तो उस पर रजिंदर ने कहा कि हमसे रखने के नाम पर बहला फुसला कर पैसा लेलिया,इसके बाद गांव के उस समय अस्पताल कई मौजूद लोग को देखा जो असंदिग्ध रूप से दिखें,जब उस पैसे को दिया था,जिस व्यक्ति के बारे में पूछा गया तो, यह बात सामने आया की उस व्यक्ति जिसने पैसे लिया था,

उसने गांव के ही एक व्यक्ति को अस्पताल उस समय मौजूद था,उसके दे दिया था,उसके बाद उस व्यक्ति ने राज खुलने और पकड़े जाने की बात सामने आने की दर से तीन हजार रुपए लेने की बात स्वीकारा,इसके बाद उस परिवार के पास ले जाकर पैसे लेने बात स्वीकार करवाया,और उसव्यक्ति ने यह कहा कि जरूरत पर मैं दे दूंगा अपने पास रखा हूँ.

इन सब बातों से यह पता चलता है,कि इस गरीब और बेशहारा परिवार को मिल रही अनाज और आर्थिक मदद को गलत हाथों में जाने से भी बचाने की सख्त जरूरत है,इसके आसपास कुछ गांव के असंदिग्ध ठग लोग से बचाने और उनपर निगरानी की आवश्यक्ता है,नहीँ तो सारे मेहनत बेकार हो जाएंगे.

तीन अनाथ सगे भाईयों ने अपने माँ की नहर में डूबकर मौत होने के बाद प्रखंड सीओ द्वारा आपदा प्रबन्ध की 4 लाख रुपए की सरकारी मुवावजे देने की घोषणा एक - एक माह बाद भी सहायता राशि नहीँ मिलने से निराश और परेशान हो अनुमण्डल कार्यालय परिषर पर धरना दिया.जानकारी के अनुसार पालीगंज " दुल्हिन बाजार " प्रखंड क्षेत्र के "  अलीपुर गांव  "  के तीन मासूम बेशहारा अनाथ सगे भाइयों राजू कुमार ( 12वर्ष ),परमहंस कुमार ( 10वर्ष ) और दिलीप कुमार ( 6वर्ष )  की माँ शारदा देवी की नहर में डूबने से 15 सितम्बर को मौत हो चुकी है,




प्रखंड सीओ ने पीड़ित परिवार को 4 लाख रुपए आपदा प्रबन्ध के राज्य सरकार से मिलने वाली सहायता राशि को दिलवाने की सार्वजनिक घोषणा किया था,जबकि 20 हजार और 3 हजार रुपए की परिवारिक लाभ की सहायता राशि बीडीओ और मुखिया द्वारा दिया गया था,और उसी दिन यह आस्वाशन सीओ द्वारा जल्द सरकारी प्रक्रिया पूरी करने के बाद दिवलाने की आस्वाशन दिया गया था,लेकिन एक माह से अधिक बीतने के वावजूद भी कोई करवाई नहीँ किया गया.

सीओ का कहना है कि " नहर में डूबने से मौत होने पर आपदा प्रबंधन की सहायता राशि नहीँ मिलता है " पलटने और वादा खिलाफी के निराश और परेशान हो तीनो अनाथ और बेशहारा भाइयो ने एसडीओं के समक्ष अनुमण्डल कार्यालय परिषर में धरना देने का फैसला लिया.

इसके बावजूद भी कोई ठोस आस्वासन नहीँ मिल सका,इन अनाथों को वहीँ चार साल पूर्व एक गम्भीर बीमारी का शिकार,पिता शनिचर साव की मौत हो चुकी है,यह तीनों अनाथ छोटे छोटे बच्चों को पढाई लिखाई तो दूर दो जून की रोटी के लिए तरस रहे है.भाई में सबसे बड़े 12 वर्षीय राजू कुमार ने बताया उनके पास आज कुछ भी नहीँ बचा है,जोभी कुछ था,पिताजी के केंसर बीमारी के इलाज में ही खत्म हो चूका है," अब हमलोग जाए तो जाए कहा ", अगर हमलोग को 4 लाख की सहायता राशि नहीँ मिला तो आमरण अनशन पर बैठ कर अपनी जान दे देंगे.

एसडीओं विनोद कुमार सिंह ने बताया नियमानुसार जो भी उचित होगा,करवाई किया जाएगा.इसको कोई ठोस आस्वासन नहीँ कहा जा सकता,जहा तक अंदर की खबर है,पदाधिकारी घटना स्थल पर आस्वाशन दिया ,परंतु जब इस बेशहारा बच्चों को राशि देने की बात आई तो पदाधिकारी गिर-गिट की तरह रंग बदलते दिख रहे है,
 




 पालीगंज टाइम्स की कलम से :
इस अनुमण्डल क्षेत्र के सभी वरीय पदाधिकारियो के कथनी और करनी में काफी अंतर होता है,ये लोग कहते कुछ और करते कुछ और है,ये लोग जब किसी घटना घटती है,तब तो ये लोग वहाँ पहुच कर पीड़ित परिजनों या आक्रोशित लोगों अपनी किसी तरह जान छुड़ाने के लिए कोरी आस्वाशन तो देकर आ जाते है,परंतु जब उन्हें देने की बारी आती है,तो ये लोग गिर-गिट तरह रंग बदलते हुए पलट जाते है,यह कहानी नई नहीँ है,अब पब्लिक भी सभ कुछ इनकी कारगिस्तानी जान चुकी है,पालीगंज टाइम्स ने माननीय केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव जी और स्थानीय विधायक भाई बच्चा बाबू से आग्रह करता हूँ, आपलोग इस पीड़ित अनाथ बच्चों को सरकारी सहायता दिलवाने की पहल करे ताकि इन बेसहारो को सहारा मिल सके.

बिहार में शुरू हो चुकी है,महापर्व छठ की तैयारियाँ, शहर से लेकर गांव तक दिख रहा है, उत्साह, आधुनिकता की इस दौर में भी हमारे देश की कुछ मान्यताएं और परंपरा ऐसी है,जिसका निर्वहन हमारा समाज अभी तक करता चला आ रहा है,इसी मान्यता के तहत हमारे द्वारा त्योहार व पर्व भी मनाया जाता है,अभी हाल मे ही संपन्न हुए दुर्गा पूजा के बाद अब लोगो ने दीपावली छठ महापर्व की भी तैयारियां कर दी है.


मान्यता है,कि छठ एक आस्था व विश्वास का पर्व है,इससे बिहार के प्रायः सभी क्षेत्रों में तो किया ही जाता है, साथ-साथ बाहरी प्रदेशों में रहने वाले बिहारी लोगो द्वारा भी इसे मनाने की परंपरा शुरू हो गयी है,छठ पर्व की शुरूआत नहाय-खाय के साथ शुरू होती है,तीन दिनों तक चलने वाली इस महापर्व में मिट्टी के चूल्हे का भी काफी महत्व है,इसी चूल्हे पर बनने वाले प्रसादो को अर्घ दिया जाता है,ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोग जहां स्वंय मिट्टी का चूल्हा बना लेते है,वहीं शहर में 90 प्रतिशत परिवार इसे खरीदकर ही इस पर प्रसाद बनाने का काम करते है,इन दिनों शहर के कई क्षेत्रों में महिलाएं ग्रामीण इलाको से मिट्टी लाकर चूल्हा बनाने के काम में जूट गयी है.

गुरु अगर चाहे तो साधारण इंसान को भी महान बना दे,बिहार के ही आचार्य चाणक्य थे,जिसने एक साधारण से बालक चंद्रगुप्त मौर्य को शिक्षा दे हिन्दुस्तान का सबसे बडा सम्राट बना बना दिया था,आज भी बिहार के धरती पर ऐसे महान शिक्षकों की कमी नहीं है,जो लगातार सैकरों बच्चों के भविष्य सवारने में लगे हुए है, ऐसे ही महान शिक्षकों में से एक पटना के प्रसिद्ध गुरु रहमान,प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी के लिए कोचिंग संस्थान लाखों की फीस वसूलते हैं,वहीं पटना के नया टोला ( पटना ) में अदम्य "  अदिति गुरुकुल  ( Aditi Gurukul ) " संस्थान है,जो ग्यारह रुपया  " गुरु दक्षिणा लेकर छात्रों को दारोगा से लेकर आईएएस और आईपीएस बनाता है.

अदिति गुरुकुल संस्थान,पटना ( नया टोला )

छात्रों से ली जाती है सिर्फ 11 रुपये गुरु दक्षिणा गुरुकुल की सबसे बड़ी खासियत ये है,कि यहां अन्य कोचिंग संस्थानों की तरह फीस के नाम पर भारी-भरकम रकम की वसूली नहीं की जाती,बल्कि छात्र-छात्राओं से गुरु दक्षिणा के नाम पर महज 11 रुपये लिए जाते हैं,11 से बढ़कर 21 या फिर 51 रुपये फीस देकर ही गुरुकुल से अब तक ना जाने कितने छात्र-छात्राओं ने भारतीय प्रशासनिक सेवा से लेकर डॉक्टर और इंजीनियरिंग तक की परीक्षाओं में सफलता हासिल की है,1994 में जब बिहार में चार हजार दरोगी की बहाली के लिए प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित की गई थी,तो उस परीक्षा में गुरुकुल से पढ़ाई करने वाले 1100 छात्रों ने सफलता हासिल की थी जो एक रिकॉड है.



कई राज्यों से बच्चें आते है,पढने : पटना के नया टोला में चलने वाले गुरुकुल में ऐसा नहीं है,कि सिर्फ बिहार के छात्र पढ़ते हैं,बल्कि गुरुकुल में झारखंड, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश जैसे राज्यों से भी छात्र आकर गुरु रहमान से टिप्स लेते हैं,गुरुकुल में हर साल प्रतियोगिता परीक्षाओं के परिणाम निकलने के समय जश्न का माहौल रहता है,ऐसी एक भी प्रतियोगिता परीक्षा नहीं होती जिसमें गुरुकुल से दीक्षा हासिल किए छात्र सफलता नहीं पाते हों.

गुरु रहमान को है वेदों का अच्छा ज्ञान : गुरुकुल के संचालक मुस्लिम समुदाय के हैं,इसके बाबजूद रहमान को वेदों का अच्छा ज्ञान है,गुरुकल में वेदों की भी पढ़ाई होती है,रहमान एक गरीब परिवार से हैं, यही कारण है,उन्हें गरीब छात्र-छात्राओं की दर्द का एहसास है,गरीब छात्रों को ही ध्यान में रखकर रहमान ने गुरुकुल की शुरुआत की थी,रहमान का मानना है,कि गरीबी का मतलब लाचारी नहीं होता बल्कि गरीबी का मतलब कामयाबी होता है,जिसे जिद और जुनून से हासिल किया जा सकता है,जो गुरुकुल में पढ़ने वाले छात्र करते हैं.

चीन के सरकारी मीडिया का मानना है,कि भारत ने पाकिस्तान को एशिया में नीचा और हारा हुआ दिखाने और अलग-थलग करने के लिए ब्रिक्स समिट का इस्तेमाल किया है,वहीं,भारत ने इस समिट में खुद को सबसे चमकते सितारे की तरह पेश किया,इस तरह भारत ने यूनाइटेड नेशन्स सिक्युरिटी काउंसिल में परमानेंट सीट और न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप ( NSG ) में अपनी मेंबरशिप के लिए दावेदारी पक्की कर ली,बता दें,कि यूएन और एनएसजी, दोनों में चीन और पाकिस्तान भारत की दावेदारी का विरोध कर रहे हैं,चीन ने कहा भारत ने स्ट्रैटजी से पाक को अलग-थलग कर दिया.

गोवा में हुई ब्रिक्स समिट के दौरान चीन के प्रेसिडेंट शी जिनपिंग, मोदी और रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन।
  • चीन के सरकारी अखबार द ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, भारत-पाक के बीच रिश्ते ठीक नहीं हैं,ये पिछले महीने और खराब हो गए,जब भारत ने द बे ऑफ बंगाल इनिशिएटिव फॉर मल्टी सेक्टोरेल टेक्निकल एंड इकोनॉमिक को ऑपरेशन ( BIMSTEC ) के लिए पहल की तो इस रीजन में वह स्ट्रैटजिक तरीके से और मजबूत हो गया.
  • इंडिया यूजेस ब्रिक्स टू आउटमैन्यूवर पाकिस्तान हेडिंग से छपे आर्टिकल में कहा गया, '' भारत ने पाकिस्तान के अलावा इस समिट में रीजन के सभी देशों को न्योता भेजा था,इससे पाकिस्तान अलग-थलग पड़ गया "
  • साउथ एशियन एसोसिएशन फॉर रीजनल को ऑपरेशन ( सार्क ) की इस्लामाबाद में नवंबर में होने वाली समिट में हिस्सा नहीं लेने के भारत के फैसले का भी चीनी मीडिया ने जिक्र किया.
  • ग्लोबल टाइम्स ने लिखा " सार्क समिट के रद्द हो जाने से भारत को रीजनल ग्रुपों में पाकिस्तान की किसी भी अड़चन को खत्म करने का मौका मिल गया, क्योंकि इन्हीं ग्रुपों के ज्यादातर देश पाकिस्तान की गैरमौजूदगी में गोवा में हुई BIMSTEC समिट में शामिल हुए,इससे सुस्त और खोखले ब्रिक्स में जान आ गई.
  • BIMSTEC में ब्रिक्स देश ब्राजील, रूस,भारत, चीन और साउथ अफ्रीका के अलावा बांग्लादेश, श्रीलंका, थाईलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान भी शामिल हैं.
  • ब्रिक्स के मेंबर देश कभी भी भारत-पाक तनाव पर खुलकर बयान नहीं देते, लेकिन भारत ने अपनी ताकत का इस्तेमाल कर समिट में एजेंडा सेट कर दिया.
  • ग्लोबल टाइम्स ने लिखा,पाकिस्तान के बिना सब-कॉन्टिनेंट में ग्रुप बनने से भारत को लेकर छोटे देशों में डर का माहौल पैदा होगा.

एनएसजी मेंबरशिप पर भारत ने दिया जोर :

  
  • ग्लोबल टाइम्स ने लिखा ब्रिक्स समिट में भारत को एनएसजी मेंबरशिप और यूएन सिक्युरिटी काउंसिल में दावेदारी पर जोर देने का भी मौका मिल गया, जिसका अब तक चीन विरोध करता रहा है,यह बात इसलिए भी अहम है,क्योंकि इससे पहले भारत की कोशिशों को झटका लग चुका है.
  • ब्रिक्स समिट में भारत ने खुद की ग्रोथ रेट को दूसरों के मुकाबले अच्छा बताया,भारत ने 2015 में मंदी के दौर में खुद की ग्रोथ रेट 7.5% बताई और दुनिया में सबसे तेज बढ़ने वाले चीन की जगह खुद को स्थापित कर लिया.
  • ग्लोबल टाइम्स ने ये भी लिखा, तीन साल पहले जहां भारत पर कमजोर ग्रोथ वाले देश का लेबल चस्पां था, वहीं चीन का परफॉर्मेंस जबरदस्त था, आज के हालात में रूस और ब्राजील की इकोनॉमी में गिरावट आई है, साउथ अफ्रीका भी ऐसी ही स्थिति से जूझ रहा है,चीन में भी बरसों से चला आ रहा इकोनॉमिक बूम भी कम हो गया है.

भारत को अपनी इकोनॉमी को लेकर भरोसा

 
  • ग्लोबल टाइम्स ने लिखा भारत ने कहीं न कहीं इकोनॉमी के मुद्दे पर भरोसा हासिल कर लिया है,पड़ोसी देशों की ग्रोथ में गिरावट के बाद भारत ने हाल ही में जो अचीवमेंट्स हासिल किए हैं, इससे स्थिति बेहतर हुई है.
  • भारत ने कुछ ही क्षेत्र में रिफॉर्म्स किए हैं,मसलन भूमि अधिग्रहण और लेबर रेग्युलेशन पीएम मोदी देश की ग्रोथ को लेकर काफी प्रो-एक्टिव हैं.
  • ब्रिक्स मौजूदा इकोनॉमिक हालात को सुधारने के लिए एक अच्छा प्लैटफॉर्म साबित होगा,इसके नतीजे न्यू डेवलपमेंट बैंक ( NDB ) और कटिन्जेंट रिजर्व अरेंजमेंट ( CRA ) के शुरू होने के बाद ज्यादा दिखेंगे, इसका भी असर भारत के रिफॉर्म्स पर पड़ेगा.

भारत के खिलाफ वनडे सीरीज खेल रही न्यूजीलैंड के क्रिकेट बोर्ड से हमारा क्रिकेट बोर्ड 32 गुना ज्यादा अमीर है,जी हां, आपने सही सुना " 32 गुना " भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ( BCCI ) के पास इतना पैसा है, कि दूसरे देश के क्रिकेट बोर्ड इसके आस-पास भी नहीं भटकते,बीसीसीआई दुनिया का सबसे रईस क्रिकेट बोर्ड है.













गौतम गंभीर ने मंगलवार को कहा भारतीयों का जीवन खेल से ज्यादा अहम है,क्रिकेटर गौतम गंभीर ने सीमा पार से जारी आतंकवाद खत्म होने तक पाकिस्तान के साथ सारे रिश्ते तोड़ लेने की बात कही है,गंभीर ने मंगलवार को कहा, " मैं पाकिस्तान के साथ क्रिकेट खेलने के बारे में सोच भी नहीं सकता, भारतीयों का जीवन खेल से ज्यादा अहम है " बता दें, कि भारत ने 2008 में मुंबई आतंकी हमले के बाद से पाक के साथ कोई बायलेटरल सीरीज नहीं खेली है.

सारे रिश्ते नाते तोड़ देनी चाहिए : गंभीर
  • गंभीर ने कहा कहा " मैं पूरी तरह से इस रुख का सपोर्ट करता हूं, कि जब तक सीमा पार आतंकवाद खत्म नहीं होता, तब तक पाकिस्तान के साथ कोई रिश्ते नहीं होने चाहिए.
  • लोगों को खुद को सेना की जगह रखकर सोचना चाहिए, जिन्होंने अपने बच्चे गंवाए हैं, किसी ने अपना पिता और किसी ने बेटा गंवाया है.
  • हम एसी कमरे में बैठकर यह कह सकते हैं,कि क्रिकेट या बॉलीवुड की तुलना राजनीति से नहीं होनी चाहिए, जब तक कि हम खुद को भारतीय मानकर नहीं सोचें  या अपने देशवासियों के बारे में नहीं सोचें,
  • इसलिए,मैं इस बात का पूरी तरह से सपोर्ट करता हूं,कि जब तक हम अपने लोगों की सिक्युरिटी नहीं कर लेते, तब तक सभी चीजों को अलग रखा जा सकता है.

कोहली ने भी की थी हमले की निंदा

  • हाल में न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज के दौरान टेस्ट क्रिकेट में वापसी करने वाले गंभीर पाकिस्तान के मुद्दे पर बोलने वाले एकमात्र भारतीय खिलाड़ी नहीं हैं.
  • इनसे पहले, विराट कोहली ने उड़ी में आर्मी के बेस पर हुए हमले की निंदा की थी, वीरेंद्र सहवाग ने भी सोशल मीडिया पर इस घटना के बारे में लिखा था.

क्रिकेटर एस. श्रीसंथ ने क्रिकेट की दुनिया के बाद अब एक्टिंग की फील्ड में नई इनिंग खेलने की तैयारी कर ली है,वे जल्द ही एक मलयाली फिल्म में हीरो के रूप में नजर आएंगे,इस फिल्म का नाम ' Team 5' है, जिसका शूटिंग शेड्यूल हाल ही में स्विटजरलैंड में खत्म हुआ है,फिल्म के लिए बनाए 6 पैक


अब एक्टिंग में हाथ आजमा रहे है : श्रीसंत
  • एस. श्रीसंथ ने इस फिल्म के लिए सिक्स पैक भी बना लिए हैं.
  • जिसका फोटो हाल ही में उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर भी किया.
  • क्रिकेट की दुनिया से दूर होने के बाद श्रीसंथ करियर को लेकर काफी एक्सपेरिमेंट कर रहे हैं.
  • क्रिकेट से बैन लगने के बाद श्रीसंथ डांस टीवी शो झलक दिखला जा में नजर आए थे.
  • इसके बाद उन्होंने केरल विधानसभा चुनाव में बीजेपी की तरफ से चुनाव लड़ा, लेकिन वे हार गए।
  • अब श्रीसंथ एक्टिंग की दुनिया में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं.
  • इस फिल्म में उनकी हीरोइन निक्की गलरानी है। जो इस साल सबसे ज्यादा ऑनलाइन सर्च की गई तमिल एक्ट्रेस हैं.
  

फिल्म में डांस करेंगे श्रीसंथ


  • इस फिल्म में श्रीसंथ एक आम हीरो की तरह रोमांटिक गाने-गाते हुए,और हीरोइन के साथ रोमांस करते हुए दिखेंगे.
  • श्रीसंथ एक अच्छे क्रिकेटर होने के साथ अच्छे डांसर भी हैं,फिल्म में वे डांस और स्टंट करते हुए भी नजर आएंगे.
  • फिल्म की स्टोरी के बारे में बताया जा रहा है,कि इस फिल्म में श्रीसंथ, अखिल नाम के लड़के का रोल प्ले करेंगे.
  • इस फिल्म के डायरेक्टर सुरेश गोविंद हैं,वहीं प्रोड्यूसर राज जकारिया है।
  • खबर ये भी है,कि इस फिल्म के बाद श्रीसंथ बॉलीवुड फिल्म ' अक्सर-2 ' में रोल करेंगे.


फोटोज में देखें, फिल्म में कैसे दिख रहे हैं,श्रीसंथ.


श्रीसंथ मलयाली फिल्म TEAM 5 में हीरो बने नजर आएंगे
श्रीसंथ मलयाली फिल्म TEAM 5 में हीरो बने नजर आएंगे



पेरिस फैशन वीक का आयोजन किया जा रहा है,वीक में कई डिजाइनर्स के आउटफिट्स को मॉडल्स रैम्प पर प्रेजेंट कर रहे हैं, ये तो डिजाइनर्स,मॉडल्ड और रैम्प की बात है,लेकिन क्या आप जानते हैं,कि रैम्प पर वॉक करने वाली ये सुपर मॉडल्स बैक स्टेज पर क्या करती हैं,यदि नहीं, तो आज आपको कुछ ऐसी फोटोज दिखाने जा रहे हैं, जिन्हें देखकर आप जान पाएंगे कि आखिर ये मॉडल्स बैक स्टेज पर क्या करती हैं,रैम्प पर सुपर मॉडल्स



पेरिस फैशन वीक में कई सुपर मॉडल्स वर्ल्ड फेमस डिजाइनर्स के आउटफिट्स को रैम्प पर प्रेजेंट कर रहे हैं,रैम्प पर गिगी हैदीद, बेला हैदीद, कार्ली क्लोज, केंडर जेनर, सारा सहित कई मॉडल्स वॉक करतीं नजर आ रही हैं.












About Author

{twitter#https://twitter.com/paliganjtimes} {google-plus#https://plus.google.com/108023997769411835514/posts} {youtube#http://youtube.com/paliganjtimes}

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.