Bachpan ki dher sari Yaadein ek sath ( बचपन की ढेर सारी यादें... एक साथ )

बचपन की ढेर सारी यादे कभी भुलाया नहीं जा सकता 

 

 ––––•(-•(  गिल्ली डंडा  )•-)•––––

 ––––•(-•( बचपन में भी बन्दुके चलाया करते थे )•-)•––––


बचपन में स्कूल न जाने  का  बहुत सारे बहाने बनाते थे । जब  कॉमिक्स पढ़ने को  मिल जाते थे । तो ऐसे पढ़ते थे ।  जैसे सर....पे  परीछा  का टेंशन हो 


 ––––•(-•(  बचपन की वैशाली अभ्यास पुस्तिका )•-)•––––



 ––•(-•( अब ये मत पूछना ये क्या है । अरे.. ईसी से तो हम बचपन में चॉकलेट ख़रीदा करते थे । )•-)•–––



 ––––•(-•(   अब  इसके बारे में मत पूछना   )•-)•––––










 ––––•(-•(  बचपन का सबसे प्यारा खेल। ..चोर सिपाही  )•-)•––––



























































 ––––•(-•(  आपको कैसी लगी बचपन की यादे  )•-)•––––

What do you say ?

Post a comment

Please share your thoughts...

Note: only a member of this blog may post a comment.

About Author

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.